Wednesday, December 31, 2008

सानिया की सिक्यूरिटी वापस


* पिछले कई महीनों से बकाया सिक्यूरिटी बिल जमा नहीं कराए
* कम से कम 2 लाख रुपए के हैं बिल
* हैदराबाद सिक्यूरिटी विंग कई बार लिखी चिट्ठी
* रिवन्यू रिकवरी ऐक्ट के तहत हो सकती है कार्यवाही
हैदराबादः टेनिस स्टार सानिया मिर्जा एक बार फिर चर्चा में हैं। उन्हें रिवन्यू रिकवरी ऐक्ट के तहत कार्यवाही का सामना करना पड़ सकता है क्योंकि कई बार कहने के बावजूद भी उन्होंने अपने सिक्यूरिटी बिल जमा नहीं कराए हैं। पिछले कई महीनों से बकाया कम से कम 2 लाख रुपए के सिक्यूरिटी बिल को जमा कराने के लिए हैदराबाद सिक्यूरिटी विंग ने उन्हें कई बार चिट्ठी भी लिखी, लेकिन अभी तक बिल अदा नहीं किए गए हैं।
पुलिस कमिश्नर बी. प्रसाद राव ने मंगलवार को मीडिया को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा- हम जानते हैं सानिया काफी व्यस्त रहती हैं और अक्सर वह किसी वर्ल्ड टूर पर होती हैं, लेकिन हमने उन्हें काफी वक्त दिया और कई बार नोटिस और रिमाइंडर्स भी भेजे। उन्होंने कहा- रकम वसूली के कई तरीकें हैं। रिवन्यू रिकवरी ऐक्ट के तहत कार्यवाही की जा सकती है। सानिया पर 2 लाख रुपए बकाया हैं। बकाया बिल न चुकाने के कारण पुलिस ने सानिया से सिक्यूरिटी भी वापस ले ली। गौरतलब है कि सानिया ने हैदराबाद पुलिस से सिक्यूरिटी की मांग की थी। उन्हें दो शिफ्ट गनमैन मिले हुए थे जो अलग-अलग शिफ्ट में तैनात रहते थे। इसके लिए सानिया को 25 हजार रुपए महीना चुकाना होता था। लेकिन करीब 9 महीने तक सिक्यूरिटी की सुविधा का फायदा उठाने के बावजूद उन्होंने बिल नहीं चुकाया जिसके चलते उनकी सुरक्षा के लिए तैनात गार्ड्स को हटा लिया गया है। पुलिस कमिश्नर राव ने कहा- सिक्यूरिटी रिव्यू कमिटी ने उनकी सुरक्षा का जायजा लेने के बाद यह फैसला लिया कि उनकी जान को किसी तरह का खतरा नहीं है इसलिए सुरक्षा वापस ली जा सकती है। वहीं दूसरी ओर पुलिस बकाया रकम की वसूली के लिए रिवेन्यू रिकवरी ऐक्ट के तहत कार्यवाही कर सकती है। (जिसका मतलब है कि पुलिस उनकी किसी संपत्ति को जब्त भी कर सकती है।) इस पूरे मामले पर सानिया को ओर से फिलहाल कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।


आगे पढ़ें...

धौनी को 'डी' गैंग की धमकी


* 50 लाख रुपये की मांग की
* चिट्ठी भेजने वाले का नाम तस्लीम
* खुद को मुंबई के ' डी ' गैंग का सदस्य बताया
रांची। भारतीय क्रिकेट टीम के तेज तर्रार कप्तान महेंद्र सिंह धौनी को एक धमकी भरा पत्र मिला है। इस पत्र में उनसे कहा गया है कि अगर वह 50 लाख रुपये नहीं देंगे तो उनके परिवार को नुकसान पहुंचायाजाएगा।
पुलिस ने बुधवार को कहा, 'धौनी की सुरक्षा के लिए सभी एहतियाती कदम उठाए गए हैं और उनके आसपास सुरक्षा व्यवस्था और पुख्ता कर दी गई है' पुलिस ने बताया, 'यह पत्र धौनी के परिवार को एक व्यक्ति ने दिया और दावा किया कि वह अंडरव‌र्ल्ड डान दाउद इब्राहिम के गिरोह का सदस्य है लेकिन यह पत्र असल में रांची की ही एक कालोनी से भेजा गया है। जहां महेंद्र सिंह धौनी रहते हैं वहां से यह कालोनी दूर नहीं है।' पुलिस को संदेह है कि यह पत्र किसी स्थानीय अपराधी का काम हो सकता है।
पुलिस महानिरीक्षक और झारखंड पुलिस के प्रवक्ता एसएन प्रधान ने कहा, 'हम क्रिकेट कप्तान को अंडरव‌र्ल्ड से धमकी मिलने की बात की फिलहाल वह पुष्टि नहीं कर सकते। हालांकि हमलोग सभी एहतियाती कदम उठा रहे हैं और मुझे विश्वास है कि इसे जल्दी ही सुलझा लिया जाएगा।'
रांची के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक संपत मीणा ने कहा, 'पुलिस इस मामले की जांच कर रही है और हमलोग इस क्षण इस बारे में कुछ भी नहीं कह सकते हैं।' हिंदी अखबार में छपी एक खबर के मुताबिक 29 दिसंबर को धौनी के पिता पान सिंह को तसलीम नामक व्यक्ति से पत्र प्राप्त दिया था। तसलीम ने दावा किया कि वह अंडरव‌र्ल्ड डान दाउद इब्राहिम के गिरोह का सदस्य है।


आगे पढ़ें...

Tuesday, December 30, 2008

खेल के तारीखी आइने में भारत

19 जनवरी * भारत ने पर्थ में आस्ट्रेलिया को तीसरे क्रिकेट टेस्ट में 72 रन से हराकर ऐतिहासिक जीत हासिल की। भारत की पर्थ में यह पहली जीत थी।
10 फरवरी * कोलकाता के गोल्फर एस एस पी चौरसिया ने भारत में आयोजित पहला यूरोपीय टूर गोल्फ टूर्नामेंट एम्मार एमजीएफ इंडियन मास्टर्स जीता। इस जीत से उन्हें 416660 डालर की पुरस्कार राशि मिली।
23 फरवरी * डेम्पो ने पहला आई लीग टूर्नामेंट जीता।
4 मार्च * भारत ने आस्ट्रेलिया को उसी की जमीन पर 2॥0 से हराकर पहली बार त्रिकोणीय श्रृंखला जीती।
12 अप्रैल* भारत ने जापान को हराकर डेविस कप विश्व ग्रुप प्ले आफ के लिए क्वालीफाई किया।
14 अप्रैल* भारतीय निशानेबाज गगन नारंग ने पेइचिंग में हुए विश्व कप में 10 मी। एयर राइफल में कांस्य जीता।
27 मई * जर्मनी के महान गोलकीपर ओलीवर कान का कोलकाता में भव्य स्वागत।
एक जून * शेन वार्न की अगुवाई में राजस्थान रायल्स ने पहला आईपीएल खिताब जीता।
8 जून * जीव मिल्खा सिंह ने बैंक आस्ट्रिया गोल्फ ओपन जीता जो यूरोपियन टूर में उनका तीसरा खिताब था।
15 जून * बैडमिंटन खिलाडी सायना नेहवाल ने सिंगापुर ओपन सुपर सीरीज के सेमीफाइनल में जगह बनाई। यह उपलब्धि हासिल करने वाली वह पहली भारतीय बनी।
18 जून * भारतीय निशानेबाज रंजन सोढी ने बेलग्रेड में विश्व कप में दो विश्व रिकार्ड की बराबरी करते हुए डबल ट्रैप का स्वर्ण जीता।
18 जुलाई * भारत ने हैदराबाद में दक्षिण कोरिया को 3-2 से हराकर जूनियर एशिया कप हाकी खिताब बरकरार रखा।
27 जुलाई * जीव मिल्खा सिंह ने जापान में नागाशिमा शिजियों इन्वीटेशनल सेगा। सैमी कप जीता.
11 जुलाई * निशानेबाज अभिनव बिन्द्रा ने पेइचिंग ओलंपिक में 10 मी. एयर राइफल स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीता. वह व्यक्तिगत ओलंपिक स्वर्ण जीतने वाले पहले भारतीय बने
13 अगस्त * भारत ने नई दिल्ली में गत चैम्पियन ताजिकिस्तान को 4-1 से हराकर एएफसी चैलेंज कप फुटबाल टूर्नामेंट जीता और 24 वर्षो के अंतराल के बाद 2011 एशिया कप के लिए क्वालीफाई कर लिया।

13 अगस्त * सायना नेहवाल पेइचिंग ओलंपिक के क्वार्टर फाइनल में हारीं।
20 अगस्त * पहलवान सुशील कुमार ने पेइचिंग ओलंपिक में कांस्य पदक जीता. भारत को 56 वर्षो के अंतराल के बाद कुश्ती में पदक जीता।
20 अगस्त * मुक्केबाज विजेन्द्र सिंह ने पेइचिंग ओलंपिक में कांस्य पदक जीता1 वह ओलंपिक पदक जीतने वाले पहले भारतीय मुक्केबाज बने।
6 सितम्बर * पंकज आडवाणी ने हमवतन गीत सेठी को हराकर बेंगलूर में विश्व बिलियर्ड्स खिताब जीता।
14 सितम्बर * सायना ने चीनी ताइपे ग्रां प्री टूर्नामेंट जीता।
26 सितम्बर * बैडमिंटन खिलाडी चेतन आनंद ने योनेक्स चेक इंटरनेशनल खिताब जीता.
5 अक्टूबर * चेतन ने बिटबर्गर ओपन ग्रां प्री खिताब जीता।
29 अक्टूबर * विश्वनाथन आनंद ने बोन । जर्मनी. में व्लादीमिर क्रैमनिक को हराकर तीसरी बार विश्व शतरंज खिताब जीता.
2 नवम्बर * भारतीय टेस्ट कप्तान अनिल कुंबले ने दिल्ली में अन्तरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा की।
10 नवम्बर * भारत ने नागपुर टेस्ट में आस्ट्रेलिया को 172 रन से हराकर बार्डर गावस्कर ट्राफी 2॥0 से जीती।
10 नवम्बर * पूर्व भारतीय कप्तान सौरभ गांगुली ने अन्तरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लिया।
16 नवम्बर *जीव मिल्खा ने सिंगापुर ओपन गोल्फ खिताब जीता और एशियन आर्डर आफ मेरिट खिताब भी जीत लिया।
26 नवम्बर * भारत ने इंग्लैंड से एक दिवसीय श्रृंखला 5-0 से जीती।
29 नवम्बर * एम सी मैरी कोम ने चीन में चौथी बार विश्व मुक्केबाजी खिताब जीता।
4 दिसम्बर * सायना टाप 10 में पहुंची।
6 दिसम्बर * अर्जेंटीना के महान फुटबालर डिएगो माराडोना का दो दिवसीय कोलकाता दौरा।
13 दिसम्बर * भारत के चार मुक्केबाजों अखिल कुमार, जितेन्द्र कुमार, दिनेश कुमार और ए.एल लाकडा ने मास्को में विश्व कप में चार कांस्य पदक जीते.
15 दिसम्बर * भारत ने चेन्नई में इंग्लैंड के खिलाफ 387 रन के रिकार्ड लक्ष्य का पीछा करते हुए पहला टेस्ट छह विकेट से जीता।
23 दिसम्बर * मोहाली में दूसरा टेस्ट ड्रा भारत ने इंग्लैंड से श्रृंखला 1-0 से जीती।


आगे पढ़ें...

Saturday, December 27, 2008

तीन साल में मिसाइल शील्ड प्रणाली


दुश्मनों की मिसाइलों को आसमान में ही नष्ट करने के लिए भारत ने इंटरसेप्टर मिसाइलें [एंटी मिसाइल] तैयार कर ली हैं। हालाँकि इसकी तैनाती तीन साल बाद ही हो पाएगी। इस बीच इसके जरूरी परीक्षण किए जायेंगे। भारत एंटी मिसाइल डिफेंस सिस्टम में महारत हासिल करने के लिए परीक्षण की तैयारी में है।
क्षमता कुछ इस तरह से विकसित की जा रही है कि यदि एक इंटरसेप्टर मिसाइल से दुश्मन मिसाइल बच भी निकले तो साथ में छोड़ी गई दूसरी इंटरसेप्टर मिसाइल उसे 10 से 25 किलोमीटर की ऊंचाई पर ध्वस्त कर दे। दो-तीन साल में कुछ और परीक्षणों के बाद इंटरसेप्टर मिसाइलों को सेना को तैनाती के लिए देने की कवायद शुरू हो जाएगी। इनकी तैनाती के बाद दुश्मन की मिसाइल परमाणु वारहेड से लैस हो और वह देश के वायुमंडल में ध्वस्त होती है तब भी चिंता की जरूरत नहीं होगी। इतनी ऊंचाई पर परमाणु वारहेड डेटोनेट नहीं होता। इस तरह मिसाइल के टुकड़े तो जमीन पर गिरेंगे, पर उससे विस्फोट के साथ तबाही नहीं मचेगी। इसके अलावा पृथ्वी मिसाइल को दुश्मन की बैलिस्टिक मिसाइल की तरह दागते हुए 50 से 80 किलोमीटर की ऊंचाई पर ध्वस्त करने का परीक्षण किए जाने की तैयारी है। यह परीक्षण उड़ीसा के तटीय इलाके में चांदीपुर रेंज से किया जाएगा। परीक्षण की सफलता के साथ ही काफी हद तक 7.5 मीटर लंबी इंटरसेप्टर मिसाइल की सफलता पर मुहर लग जाएगी।
10 से 25 किलोमीटर की ऊंचाई तक दुश्मन की मिसाइल को ध्वस्त करने वाली इंटरसेप्टर पीएडी मिसाइल को 'प्रद्युम्न' नाम दिया गया है। संभावना है कि इससे अधिक ऊंचाई पर इंटरसेप्ट करने वाली एएडी मिसाइल को 'अश्विन' नाम दिया जाएगा।


आगे पढ़ें...

वियाग्रा बना अमेरिका का हथियार


  • अफगानी कबीलों के सरदारों को दे रहे लालच
  • बदले में तालिबान के ठिकानों और गतिविधियों की दे रहे जानकारी
वॉशिंगटन : अमेरिका ने एक बार फिर साबित कर दिया है कि जंग और इश्क में सब जायज है। अफगानिस्तान में तालिबान और अल-कायदा के खिलाफ जारी लड़ाई में उसने वियाग्रा को अपना हथियार बना लिया है और यह काफी कारगर भी साबित हो रहा है।
अमेरिकी खुफिया एजंसी सीआईए अफगानी कबीलों के सरदारों को तालिबान और अल-कायदा के बारे में जानकारी देने के बदले वियाग्रा का प्रलोभन दे रही है। दरअसल, ज्यादातर सरदारों की एक से ज्यादा और उनके मुकाबले काफी कम उम्र की बीवियां हैं। इसलिए उन्हें अमेरिकी खुफिया एजंसी का यह तोहफा काफी पसंद आ रहा है। बदले में वे अमेरिकी सेना को तालिबान के ठिकानों और गतिविधियों की जानकारी दे रहे हैं।
वॉशिंगटन टाइम्स ने एक सीआईए एजंट के हवाले से लिखा है कि उन्होंने एक कबीले के सरदार को वियाग्रा की चार गोलियां दीं। वह सरदार 60 साल से अधिक उम्र का है और उसकी चार जवान बीवियां हैं। एजंट के मुताबिक वह सरदार चार दिन बाद आया और उसने तालिबान के रूट और सामान की सप्लाई के बारे में ढेरों जानकारियां दीं। बदल में सरदार ने एजंट से और वियाग्रा देने की मांग की।


आगे पढ़ें...

1971 में पाक से हारा था भारत !

क्या सिखाया जाता है पाकिस्तान के स्कूलों में

  • भारत, पाकिस्तान का हिस्सा था।
  • अंग्रेजों ने हिंदुओं की मदद से मुस्लिमों पर जमकर जुल्म किए।
  • 1971के भारत-पाक युद्ध में पाक ने भारत को जबर्दस्त शिकस्त दी ।
  • हिंदू मुस्लिमों को गुलाम बनाना चाहते हैं
  • अंग्रेजों से मिले हुए थे हिंदू
  • एक ' मुजाहिद ' बनें और भारत के साथ दोस्ती की कोई भी गुंजाइश न छोड़ें।

जी हां, पाकिस्तानी बच्चों को कुछ यही पढ़ाया जा रहा है। पाकिस्तान की सरकारी स्कूलों में पढ़ाई जा रही कोर्स की किताबों में यही बातें लिखी हैं। पाकिस्तानी किताबों में भारत के खिलाफ इतना जहर उगला गया है कि किसी को भी भारत से नफरत हो जाए।

पाकिस्तान में मासूम बच्चों के ब्रेनवॉश के लिए वहां के मदरसे तो बदनाम हैं ही, सरकारी स्कूलों में भी उन्हें सालों से नफरत का पाठ पढ़ाया जा रहा है। बच्चों को इस तरह गुमराह करने के लिए 1977 में बनी वहां की शिक्षा नीति जिम्मेदार है। वहां की सरकार किताबों में खासकर हाई स्कूल के कोर्स में भारत और हिंदुओं को खिलाफ नफरत फैलाने वाली कई बातें शामिल हैं। किताबों में बताया गया है कि कैसे इतिहास को मिटाया
  • हाई स्कूल की किताब में 1971 के युद्ध के बारे में यह नहीं बताया गया है कि कैसे पाकिस्तान को इसमें शिकस्त मिली और 90,000 सैनिकों को हथियार डालने पड़े। बल्कि बताया गया है कि इस युद्ध में कैसे पाक सेना ने नए रेकॉर्ड बनाए। भारतीय सेनाओं को हर मोर्चे पर शिकस्त दी गई।
  • एक किताब में लिखा है, ' अंग्रेजों ने हिंदुओं की मदद से मुस्लिमों पर जमकर जुल्म किए। मोहम्मद अली जिन्ना को लगा कि हिंदू मुस्लिमों को गुलाम बनाना चाहते हैं। वह गुलामी से नफरत करते थे, इसीलिए उन्होंने कांग्रेस को छोड़ दिया।
  • ' भारत ने पूर्वी पाकिस्तान के लोगों पर वहां के हिन्दुओं की मदद से जुल्म ढाए। दिसंबर 1971 में इस हिस्से को पाकिस्तान से अलग कर दिया गया। इसलिए हम सभी को मिलिट्री ट्रेनिंग की जरूरत है। जिससे हम दुश्मन का मुकाबला कर सकें।
  • पांचवीं की किताब में लिखा है, ' ब्रिटिश भारत पर कब्जे के इरादे से आए थे। हिंदुओं ने इसमें उनकी पूरी मदद की। भारत पर कब्जे के बाद अंग्रेजों ने जहां एक तरफ जमकर लूटपाट की, वहीं हिंदुओं की मदद से मुस्लिमों पर जुल्म ढाए। '
  • भारत-पाक युद्ध का जिक्र करते हुए ' जिहाद ' और ' शहादत ' जैसे शब्दों का इस्तेमाल किया गया है। स्टूडंट्स से कहा गया है कि वह भी एक ' मुजाहिद ' बनें और भारत के साथ दोस्ती की कोई भी गुंजाइश न छोड़ें।


आगे पढ़ें...

Friday, December 26, 2008

गजनी ने तोड़े सारे रिकॉर्ड


मुंबई. अक्षय कुमार की फिल्म सिंग इज किंग ने बॉक्स ऑफिस पर गजब का तहलका मचाया था, लेकिन आमिर खान तो उससे भी कहीं आगे निकल गए। बुकिंग के मामले में गजनी ने पिछले सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। क्रिसमस पर रिलीज हुई गजनी को शत प्रतिशत ओपनिंग मिली। इतना ही नहीं अगले एक हफ्ते तक गजनी हाउस फुल है और सारी टिकट पहले ही बिक चुकी हैं।
गजनी एक ऐसे युवक की कहानी है जिसकी याददाश्त कुछ समय के लिए चली जाती है और वह अपनी प्रेमिका की मौत का बदला लेना चाहता है। ट्रेड एनालिस्ट के अनुसार गजनी पहले हफ्ते में रिकॉर्ड 35 करोड़ का व्यवसाय करेगी। यह आंकड़ा पिछले हफ्ते रिलीज हुई शाहरुख खान की फिल्म रब ने बना दी जोड़ी से तीन गुना अधिक है। तरन आदर्श ने बताया कि पहले हफ्ते में कमाई के लिहाज से यह अभी तक का सर्वश्रेष्ठ आंकड़ा है।
गजनी पहली फिल्म है जिसके अगले एक हफ्ते तक के सारे शो की एडवांस बुकिंग हो चुकी है। ऐसा अभी तक किसी भी फिल्म के साथ नहीं हुआ। दुनिया भर में गजनी 1450 प्रिंट्स के साथ रिलीज हुई है।
मुंबई के डिस्ट्रीब्यूटर संदीप भार्गव ने कहा कि हिंदी फिल्मों के इतिहास में कोई भी फिल्म इतने अधिक प्रिंट्स के साथ रिलीज नहीं हुई।हाउस फुल की यह स्थिति सिर्फ मल्टीप्लेक्ससेस में ही नहीं बल्कि बी, सी और डी कैटेगरी के थियेटर्स में भी है। सिंह इज किंग ने 90 प्रतिशत ओपनिंग दी थी, लेकिन गजनी की ओपनिंग पूरे सौ प्रतिशत रही। साफ है कि आमिर का जादू दर्शकों के सिर चढ़कर बोल रहा है। कई अटकलों के चलते फिल्म की सिर्फ अच्छी शुरुआत की उम्मीद थी, लेकिन यहां तो सारे रिकॉर्ड ध्वस्त होते नजर आ रहे हैं। यह सचमुच कमाल है।


आगे पढ़ें...

फिर पकड़ा गया पाक का सफेद झूठ

इस्लामाबाद : मुंबई आतंकवादी हमले के बाद पाकिस्तान अपने देश में होने वाली हर गड़बड़ी के
लिए भारत को दोषी ठहरा रहा है। लेकिन हर बार पाकिस्तान का झूठ पकड़ में आ जाता है। ताजा मामला लाहौर में हुए ब्लास्ट का है। पाकिस्तान ने आरोप लगाया था कि इस ब्लास्ट को भारतीय जासूस ने अंजाम दिया है। लेकिन एक तालिबान समर्थक समूह ने अंसार-वा-मोहाजिर ने इस ब्लास्ट की जिम्मेदारी लेकर पाकिस्तान को झूठा साबित कर दिया है।
लाहौर में बुधवार को हुए ब्लास्ट में एक महिला की मौत हो गई थी और चार लोग घायल हुए थे। पाकिस्तान का दावा था कि इस घटना को सतीश आनंद शुक्ला नाम के भारतीय जासूस ने अंजाम दिया है। विस्फोट के घंटों बाद मीडिया खबरों में कहा गया था कि खुफिया और सुरक्षा इकाइयों ने लाहौर में एक कथित भारतीय नागरिक को पकड़ा है जिसकी पहचान सतीश आनंद शुक्ला या सतीश आनंद शर्मा के रूप में हुई है जिसने लंदन में भारतीय उच्चायोग के साथ भी काम किया था और वह कोलकाता का रहने वाला है। भारत सरकार ने पाकिस्तान के इस दावे को खारिज कर दिया था।
इसके बाद तालिबान समर्थक संगठन अंसार-वा-मोहाजिर ने एक पाकिस्तानी अखबार को फोन कर इस हमले की जिम्मेदारी ली। इस गुट ने सुरक्षाबलों और सरकारी संस्थानों के खिलाफ और हमलों की धमकी भी दी है। अंसार-वा-मोहाजिर ने कहा है कि वह उत्तरी वजीरिस्तान में अमेरिकी मिसाइल हमले में मारे गए आतंकवादियों की मौत का बदला लेना चाहता है।
वजीर ने दावा किया कि उसके आदमी अंसार [लड़ाके] हैं जिनमें विभिन्न देशों तथा पाकिस्तान के अन्य हिस्सों से वजीरिस्तान में शरण लेने आए मुहाजिर [शरणार्थी] समुदाय के लोग शामिल हैं। उसने कहा कि उसका समूह उन विदेशियों की रक्षा के प्रति प्रतिबद्ध है जो स्थानीय कबाइलियों के मेहमान हैं।
लाहौर बम विस्फोट के तरीके के बारे में हालांकि वजीर और पुलिस के दावे अलग-अलग हैं। वजीर का कहना है कि एक सरकारी प्रतिष्ठान को निशाना बनाने के लिए यह एक फिदायीन हमला था जबकि पुलिस कह रही है कि विस्फोट एक मिनी ट्रक में छिपाकर रखे गए विस्फोटक की वजह से हुआ।


आगे पढ़ें...

पाक ने सीमा पर शुरू की जंग की तैयारी!

इस्लामाबादः क्या भारत और पाकिस्तान के बीच जंग की आहट सुनाई देने लगी है? दोनों देशों के प्रधानमंत्री भले ही इससे इनकार कर रहे हों , लेकिन बॉर्डर पर पाक की तरफ से जंग की पूरी तैयारी है। एक रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में नियंत्रण रेखा और भारत से लगी दूसरी सीमाओं पर नए सैनिकों को तैनात किया गया है।
पाकिस्तानी अखबार ' डेली टाइम्स ' के मुताबिक रक्षा विभाग ने ताजा सैनिक हलचल के बारे में बताने से इनकार कर दिया है , लेकिन इन खबरों को खारिज नहीं किया कि पाकिस्तान लाहौर सेक्टर में सीमा पर नए सैनिक भेज रहा है। सूत्रों के मुताबिक अहम मोर्चों की सुरक्षा के लिए सैनिकों को गुरुवार को एलओसी और अंतरराष्ट्रीय सीमा पर तैनात किया गया।
पाक सेना की 10 वीं ब्रिगेड को लाहौर की ओर भेजा गया है। इसी तरह आमतौर पर रिजर्व में रखी जाने वाली तीसरी आर्मर्स ब्रिगेड को झेलम की ओर रवाना किया गया है। 10 वीं और 11 वीं डिविझ़न को भी हाई अलर्ट पर रखा गया है। पाकिस्तानी मीडिया में ये खबरें भी हैं कि पाकिस्तानी एयर फोर्स को भी अलर्ट कर दिया गया है। चश्मा पावर प्लांट और अन्य संवेदनशील स्थानों की हवाई निगरानी की जा रही है।


आगे पढ़ें...

Thursday, December 25, 2008

कोई भी मैच देश से बड़ा नहीं


बल्ले की धमक से अक्सर सुर्खियां बटोरने वाले सचिन तेंडुलकर इस बार अपने बयान से ख़बर में हैं। भारत द्वारा पाकिस्तान दौरे को रद्द किए जाने पर सचिन तेंडुलकर ने कहा है कि कोई मैच या खेल देश से बड़ा नहीं होता है।
पाकिस्तान दौरा रद्द करने का फैसला सही
मसूरी में अपने परिवार के साथ क्रिसमस और नए साल की छुट्टियां बिता रहे मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंडुलकर ने कहा कि भारत द्वारा पाकिस्तान दौरा रद्द करने का फैसला बिल्कुल सही था। सचिन ने कहा कि मुंबई पर हुआ टेरर अटैक बहुत बड़ा हादसा था। ऐसे दिल दहलाने वाले हादसे के सामने किसी भी खेल या मैच की कोई बिसात नहीं है।

तब बेहद जज़्बाती हो गए थे
तेंडुलकर ने कहा कि हर खेल ऐसे हादसों के सामने छोटा है। गौरतलब है कि हाल ही में इंग्लैंड को चेन्नै टेस्ट में हराने के बाद सचिन तेंडुलकर ने शायद पहली बार क्रिकेट के मैदान पर खेल के इतर बात करते हुए कहा था कि यह जीत और उनकी शतकीय पारी मुंबई हादसे में शहीद हुए लोगों के नाम है। सचिन तेंडुलकर कॉमेंटेटर रवि शास्त्री से बात करते हुए तब बेहद जज़्बाती हो गए थे।

धौनी अच्छे कप्तान पर कामयाबी पूरी टीम की
भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी को एक बेहतरीन नेतृत्वकर्ता बताते हुए सचिन ने कहा है कि धोनी बेशक अच्छे कप्तान है मगर कामयाबी में उनकी टीम का भी महत्वपूर्ण योगदान है। 'क्रिकेट में इस साल भारत की कामयाबी का श्रेय धौनी की कप्तानी के साथ-साथ एक इकाई के रूप में टीम की कोशिशों को भी जाता है।'

गंभीर के खेल में निरंतरता
टीम के महत्वपूर्ण सदस्य बन चुके ओपनर गौतम गंभीर की तारीफ करते हुए सचिन ने कहा, 'गंभीर ने खुद को टीम का अहम खिलाड़ी साबित किया है। गंभीर ने इस पूरे साल बहुत अच्छी बल्लेबाजी की है। उन्होंने ऐसी फार्म दिखाई जिससे विपक्षी टीमों की नींद उड़ गई। उन्होंने अपने खेल में गजब की निरन्तरता बनाए रखी। उन्होंने जरूरत के मुताबिक आक्रामक और रक्षात्मक खेल का बखूबी प्रदर्शन किया।' गंभीर ने ढेरों रन बनाने के दौरान ठोस तकनीक और क्षमता का प्रदर्शन किया। टीम के सहयोगी उनकी क्षमताओं को जानते थे अब पूरी दुनिया उनकी कूवत से वाकिफ हो गई है।'

संन्यास के बारे में अटकलें लगाना बंद करें
सचिन ने अपने आलोचकों से कहा, 'वह मेरे संन्यास के बारे में अटकलें लगाना बंद करें। संन्यास के बारे में अपने फैसले से मैं खुद ब खुद अवगत करा दूंगा।' उन्होंने कहा, 'मैं चाहता हूं कि मुझसे संन्यास के बारे में तभी बात की जाए जब मैं यह समझूं कि संन्यास के लिए सही समय आ गया है। दूसरे लोगों को मेरे संन्यास लेने के बारे में अटकलें लगाने की कोई जरूरत नहीं है।'


आगे पढ़ें...

पाकिस्तानी मीडिया ने बदला भारतीय नक्शा

मुंबई हमले के बाद कटघरे में खड़ा पाकिस्तान जिस तरह भारत को आंखें दिखा रहा है, उससे उसके इरादों की बानगी साफ दिखाई दे रही है। इसका प्रमाण वे दो नक्शे हैं, जो इन दिनों इंटरनेट की दुनिया में चर्चा का विषय बने हुए हैं।
पाकिस्तान के 2012 तथा 2020 के इन संभावित नक्शों में भारत के अस्तित्व को खत्म कर दिया गया है। पाकिस्तान के प्रमुख उर्दू दैनिक 'डेली एक्सप्रेस' द्वारा प्रकाशित नक्शों को एक 'पाकिस्तानी महिला स्कॉलर' ने बनाया है।
अखबार ने लाहौर संवाददाता के हवाले से इन दोनों नक्शों को प्रकाशित किया था। इस संवाददाता ने एक महिला स्कॉलर के हवाले से नक्शे का ब्यौरा दिया है। 2012 के पाकिस्तान के संभावित नक्शे में कश्मीर, पंजाब, हरियाणा, गुजरात, राजस्थान तथा महाराष्ट्र के आधे से ज्यादा हिस्से को पाकिस्तान का दिखाया गया है। इस नक्शे में मुंबई का नाम मुस्लिमाबाद बताया गया है।
2020 का संभावित नक्शा भारत का अस्तित्व खत्म करने वाला है। इस नक्शे में लगभग पूरे भारत को इस्लामिक रिपब्लिकन ऑफ पाकिस्तान बताया गया है। इसमें भारत के दक्षिणी हिस्से को 'विवादित इलाका' बताया गया है।
इस नक्शे में नेपाल, बांग्लादेश तथा श्रीलंका का उल्लेख यथावत है। लेकिन चीन के इलाके को 'फार ईस्ट' बताया गया है। नक्शा बनाने वाली महिला ने अपने इंटरनेट ब्लॉग में यह भी लिखा है कि भारत 'मुंबई नौटंकी' के बदले में महज अमेरिकी आशीर्वाद के साथ पाकिस्तान पर हमला करेगा और पाकिस्तान इस हमले में भारत को ऐसा सबक सिखाएगा जो उसे सात जन्म तक याद रहेगा। कथित महिला स्कालर ने भारतीय मीडिया का भी काफी मजाक उड़ाया है।


आगे पढ़ें...

'जिहाद यानी कुंवारी लड़कियों से सेक्स का मौका'

मुंबईः पाकिस्तान में आतंकवादियों को जिहाद में जान देने के लिए उकसाने के वास्ते कुंवारी लड़कियों से सेक्स का लालच दिया गया था। मुंबई आतंकी हमलों के बाद गिरफ्तार अजमल कसब ने खुलासा किया है कि ट्रेनिंग कैपों में पाकिस्तानी सेना के अफसरों ने उन्हें यकीन दिलाया था कि जिहाद के बाद उन्हें जन्नत में कुंवारी लड़कियों से सेक्स करने का मौका मिलेगा।
10 पाकिस्तानी आतंकवादियों को ट्रेनिंग के दौरान प्रवचन दिये जाते थे। पाक सेना के अफसर और लश्कर-ए-तैयबा के कमांडर उन्हें बताते थे कि जैसे ही मुंबई में जिहाद के दौरान तुम्हारी मौत होगी, तुम्हारे शरीर से रोशनी और खुशबू निकलेगी। लेकिन जन्नत जाने से पहले खूबसूरत कुंवारी लड़कियां तुम्हारा इंतजार कर रही होंगी। लेकिन अब कसब मानता है कि जिहाद जन्नत में वर्जिन लड़कियों से सेक्स का नापाक तरीका है। मुंबई में वह अपने साथियों की लाशें देखकर बुरी तरह डर गया था। अब उसका मानना है कि पाक सेना और लश्कर के कमांडरों ने टीनएजर लड़कों को लुभाने के लिए खूबसूरत लड़कियों के नाम पर धोखा दिया।


आगे पढ़ें...

कसब को कानूनी मदद से पाक का इनकार

इस्लामाबादः पाकिस्तान ने मुंबई हमले में पकड़े गए आतंकवादी मोहम्मद अजमल उर्फ कसब से किनारा करते हुए उसे कानूनी मदद देने से इनकार कर दिया है। पाकिस्तान के गृह मंत्रालय के सलाहकार रहमान मलिक ने कहा कि पाक सरकार कसब को कोई कानूनी मदद नहीं देगी। मलिक ने कहा कि कसब के पाकिस्तानी नागरिक होने का कोई सबूत नहीं है। उन्होंने इसकी जांच करवाई, इसमें कोई ऐसा सबूत नहीं मिला जिसमें कसब के पाकिस्तानी नागरिक होने की तस्दीक होती हो। गौरतलब है कि भारत सरकार ने कसब की एक चिट्ठी पाकिस्तान को सौंपी थी। इसमें कसब ने पाकिस्तान से कानूनी मदद की गुहार लगाई थी।


आगे पढ़ें...

आतंकियों ने नंगा करके मारा था बंधकों को


मुंबई के ताज होटेल में 26 नवंबर को आतंकवादियों ने हैवानियत का नंगा नाच किया था। टूरिस्ट्स को गोली मारने से पहले उनके कपड़े उतरवाए गए और फिर उनको गोलियों से भून डाला गया। यही नहीं नरीमन हाउस में यही कहानी दोहराई गई। वहां रब्बी और उनकी पत्नी को गोली मारने से पहले उनके गुप्तांगों पर वार किए गए।
ताज होटेल को आतंकवादियों के कब्जे से छुड़ाने के बाद फरेंसिक एक्सपर्ट्स द्वारा ली गईं दिल दहला देने वाली तस्वीरें कुछ यही बयां कर रही हैं। यही नहीं आतंकवादियों की यह हरकत सीसीटीवी कैमरे में कैद है। हालांकि पुलिस अभी किसी टूरिस्ट्स से रेप की बात से इनकार कर रही है। आतंकवादियों के निशाने पर खासतौर पर विदेशी पर्यटक थे।
ताज होटेल में NSG के कमांडो जब आतंकवादियों का सफाया करने का प्लैन बना रहे थे, तब आतंकवादी होटेल के अंदर हैवानियत का नंगा नाच कर रहे थे। फॉरेंसिक टीम द्वारा ली गई तस्वीरों में मारे गए टूरिस्ट में से अधिकांश के शरीर पर कपड़े नहीं हैं। यह सारी तस्वीरें दिल दहला देने वाली हैं। नरीमन हाउस में मारे गए रब्बी और उनकी पत्नी के साथ भी आतंकियों ने यही किया। इस मामले की जांच कर रहे एक सीनियर ऑफिसर ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि आतंकवादियों ने पहले रब्बी और उनकी वाइफ के गुप्तांगों पर वार किया फिर उन्हें गोली मारी। गौरतलब है कि ताज में मारे गए 31 लोगों में से आठ विदेशी टूरिस्ट थे।


आगे पढ़ें...

Wednesday, December 24, 2008

पाक ने कबूला, फरीद उसका भगौड़ा सैनिक


पाकिस्तान सेना ने माना है कि जम्मू-कश्मीर में बडे़ आतंकी हमले की साजिश को अंजाम देने के आरोप में पकड़ा गया गुलाम फरीद उसकी सेना का भगौड़ा सैनिक है। पाकिस्तानी सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बुधवार को बताया कि गुलाम फरीद दो साल पहले ही पंजाब प्रांत के ओकारा कस्बे से गायब हो गया था और उसे बाद में भगोड़ा घोषित कर दिया गया था।
हालांकि अधिकारी ने जम्मू-कश्मीर में बड़े आतंकी हमले की साजिश का भंड़ाफोड़ करने और एक पाकिस्तानी सैनिक को गिरफ्तार करने संबंधी भारत के दावे को खारिज करते हुए कहा कि गुलाम फरीद अब पाकिस्तानी सेना का जवान नहीं है। उन्होंने कहा कि इस आधार पर हम जम्मू-कश्मीर पुलिस द्वारा पाकिस्तान सेना के सिपाही फरीद को गिरफ्तार करने संबंधी भारत के दावे को खारिज करते हैं। उल्लेखनीय है कि कल जम्मू-कश्मीर के पुलिस प्रमुख कुलदीप खोड़ा ने राज्य में एक बड़े आतंकी हमले की साजिश का भंड़ाफोड़ करते हुए तीन आतंकियों को पकड़ने की बात कही थी और इनमें पाकिस्तानी सेना का एक सिपाही भी होने का दावा किया था। खोड़ा ने उसकी पहचान पाकिस्तानी सेना की आजाद कश्मीर रेजीमेंट के सिपाही गुलाम फरीद के रूप में होने का भी दावा किया था। इसके अलावा पाकिस्तानी सैन्य अधिकारी ने कहा कि फरीद जिस रेजीमेंट में पहले था उसे भारत से लगी नियंत्रण रेखा पर भी तैनात नहीं किया गया है।


आगे पढ़ें...

पाक सेना को कम न समझे भारत: जरदारी

इस्लामाबादः मुंबई पर हमलों को लेकर भारत के साथ वाकयुद्ध के बीच पाकिस्तान ने कहा है कि उसकी सेनाएं किसी तरह के हमले को विफल करने में सक्षम हैं और भारत को उसकी सेना की ताकत को कम नहीं आंकना चाहिए।
राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी ने जॉइंट चीफ ऑफ स्टाफ कमिटी के प्रमुख जनरल तारिक माजिद के साथ बैठक में कहा कि भारत को पाकिस्तान की सैन्य ताकत को कम नहीं आंकना चाहिए। न्यूज चैनल ' डॉन ' के अनुसार माजिद ने राष्ट्रपति को बताया कि सशस्त्र बल पूर्वी मोर्चे से किसी भी स्थिति से निपटने में पूरी तरह सक्षम हैं। उधर प्रधानमंत्री युसूफ रजा गिलानी ने कहा कि सेनाओं की तैयार पूरी है लेकिन भारत और पाकिस्तान दोनों अपनी सीमाओं पर तनाव अफॉर्ड नहीं कर सकते।


आगे पढ़ें...

अब मैं आदमखोर नहीं रही


अपने नए ऐल्बम में 30 प्रेमियों के बारे में गाने के सिर्फ छह महीने बाद फ्रांस की प्रथम महिला कार्ला ब्रूनी ने कहा है कि अब वह आदमखोर नहीं रहीं। फ्रांस के राष्ट्रपति निकोलस सारकोजी की पत्नी ने कहा कि निकोलस से उनकी शादी हो चुकी है। उन्होंने आदमखोरी के अपने पुराने तरीकों को छोड़ दिया है जिसमें सर मिक जैगर से डोनल्ड ट्रंप तक कई पुरुष मित्र शामिल थे।
ब्रूनी के हवाले से एक मैग्जीन ने लिखा है कि अब और पथभ्रष्ट नहीं हो सकती क्योंकि मैं अपने पति से प्यार करती हूं , मैं उन्हें दुख नहीं पहुंचाना चाहती। मैं आदमखोर नहीं रही। हमारी नई - नई शादी हुई है। हाल में 41 वर्ष की हुईं ब्रूनी फिलहाल अपने पति के साथ ब्राजील में हैं। सारकोजी ब्राजील के प्रेज़िडंट लुइस इनासियो लुला डी सिल्वा के साथ 8 बिलियन पाउंड के हथियार सौदे के लिए दौरे पर गए हुए हैं। ब्रूनी ने एक हफ्ते पहले कहा था कि उन्हें और निकोलस से शादी का फैसला लेने में सिर्फ 48 घंटे लगे थे।


आगे पढ़ें...

Tuesday, December 23, 2008

कब कहा, साजिश थी करकरे की हत्याः अंतुले

सरकार की सफाई के बाद बयान से पलटे अंतुले
नई दिल्लीः केंद्रीय मंत्री ए.आर. अंतुले के विवादास्पद बयान पर केंद्र सरकार ने संसद में अपनी सफाई देते हुए कहा है कि एटीएस के चीफ हेमंत करकरे की हत्या के पीछे कोई साजिश नहीं थी। उनकी मौत आतंकवादियों की गोली से ही हुई थी। सरकार के इस बयान के बाद अंतुले ने भी यू-टर्न ले लिया। उन्होंने कहा कि मैंने कभी इस घटना को साजिश नहीं कहा था। अब इस मामले में किसी तरह की जांच की भी जरूरत नहीं है। हालांकि उन्होंने अपने कॉमेन्ट से लिए माफी मांगने से अभी भी इनकार किया। इससे पहले गृह मंत्री पी. चिदंबरम ने संसद में सरकार की तरफ से सफाई देते हुए करकरे की हत्या पर अंतुले की थिअरी को पूरी तरह से नकार दिया। चिदंबरम ने कहा कि करकरे की हत्या आतंकवादियों ने ही की है। सरकार के बयान से विपक्षी सांसद संतुष्ट नहीं हुए। वे लगातार अंतुले को मंत्रिमंडल से बर्खास्त करने की मांग करते रहे। कुछ देर बाद बीजेपी के सांसदों ने सदन से वॉकआउट कर दिया। इसके बाद लोकसभा की कार्रवाई स्थगित कर दी गई।


आगे पढ़ें...

तो दोबारा जूते फेंकूंगाः जैदी

बगदादः अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज बुश पर बगदाद में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान जूता फेंकने वाले इराकी पत्रकार मुंतजर अल जैदी ने कहा है कि मौका मिला तो वह फिर जूता फेंकेंगे। सोमवार को जैदी के भाई उदय अल जैदी ने जेल में अपने भाई पर किए जा रहे अत्याचारों के बताते हुए कहा कि उनके भाई से जबर्दस्ती माफी मांगने के लिए चिट्ठी लिखवाई गई है।
गौरतलब है कि पिछले सप्ताह इराकी प्रधानमंत्री कार्यालय ने कहा था कि अमेरिकी राष्ट्रपति पर जूता फेंकने वाले पत्रकार ने पत्र लिखकर माफी मांग ली है। लेकिन जैदी के भाई ने कहा कि यह चिट्ठी जैदी से उनकी मर्जी के खिलाफ दबाव डालकर लिखवाई गई है। इस मामले की सुनवाई बुधवार से शुरू होने जा रही है।
मुंतजर अल जैदी मामले की तहकीकात कर रहे जज ने बताया- मामले की सुनवाई उसी कोर्ट में मीडिया की उपस्थिति में होगी। उन्होंने कहा- हमने जांच प्रक्रिया पूरी कर लेने के बाद मुंतजर के आरोपों में कोई भी परिवर्तन नहीं किया है।


आगे पढ़ें...

Sunday, December 21, 2008

प्रभावशाली शख्सियतों में सोनिया और शाहरुख


अमेरिकी पत्रिका 'न्यूजवीक' ने दुनिया के सबसे प्रभावशाली हस्तियों में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और ऐक्टर शाहरुख खान को भी शामिल किया है।
न्यूजवीक ने दुनिया के 50 प्रभावशाली लोगों की सूची में सोनिया को 17वें और शाहरुख को 41वें पायदान पर रखा है। नए साल की शुरुआत में दुनिया के 'पावर इलिट' की इस सूची में टॉप स्थान अमेरिका के नवनिर्वाचित प्रेजिडंट बराक ओबामा को दिया गया है। सूची में ओबामा के बाद चीन के प्रेजिडंट हू चिया पाओ, फ्रांसीसी प्रेजिडंट निकोला सार्कोजी, ब्रिटेन के प्रधानमंत्री गॉर्डन ब्राउन, जर्मनी की चांसलर एंजेला मार्केल तथा रूस के प्रधानमंत्री व्लादिमीर पुतिन हैं। सूची में पाकिस्तान के सैन्य प्रमुख अशफाक परवेज कयानी को 20वें पायदान पर रखा गया है। आश्चर्यजनक रूप से पत्रिका ने अपनी सूची में ओसामा बिन लादेन को भी रखा है।


आगे पढ़ें...

माही के नाम पर मंदिर जल्द

रांचीः टीम इंडिया के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के चाहने वाले उनके लिए यहां एक मंदिर के निर्माण के बारे में सोच रहे हैं। 'वी द धोनी फैंस' क्लब इस मंदिर के निर्माण के लिए फंड एकत्र कर रहा है। इस क्लब के अध्यक्ष जितेंद्र कुमार सिंह ने जानकारी दी कि इसके लिए धोनी के और भी शुभचिंतक मदद कर रहे हैं। उन्होंने कहा, 'हमने सोचा अगर अमिताभ बच्चन और शाहरुख खान का लंदन में वैक्स स्टैच्यू बनाया जा सकता है तो क्यों ना हम भी अपने धोनी के लिए ऐसा मंदिर बनवाए जहां उनकी पांच फुट का स्टैच्यू लगाया जाए।' लेकिन यहां सबसे बड़ा सवाल है कि क्या धोनी इस मंदिर के उद्घाटन के लिए तैयार होंगे।
मंदिर का निर्माण शुरू कर दिया गया है और इसे 1650 स्क्वायर फीट एरिया में बनाया जाएगा। उम्मीद की जा रही है कि अगले साल तक यह पूरी तरह बनकर तैयार हो जाएगा।


आगे पढ़ें...

बहुत हुआ सबूत, कार्रवाई करे पाक


नई दिल्ली। औद्योगिक राजधानी मुंबई में हुए आतंकी हमलों को लेकर पाकिस्तान के खिलाफ भारत ने कडा रूख अख्तियार कर लिया है।
विदेश मंत्री प्रणब मुखर्जीने आज सख्त लहजे में कहा कि "अब बहानेबाजी से काम नहीं चलेगा और पाकिस्तान को आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई ही होगी।" प्रणब मुखर्जीने कहा कि "पाकिस्तान को बहुत सबूत दिए जा चुके हैं। अब और सबूत नहीं दिए जाएंगे। पाकिस्तान अब बहानेबाजी छोडकर आतंककारियों के खिलाफ कार्रवाईकरे।"
विदेश मंत्री ने पाकिस्तान के राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी से सवाल करते हुए कहा कि "वो बताएं कि उन्हें क्या सबूत चाहिए। भारत ने अपनी ओर से पूर्याप्त सबूत पाकिस्तान को दिए हैं और ये सबूत किसी से छुपे भी नहीं हैं। उन्होंने कहा कि यदि पाक सरकार अभी भी आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं करेगी तो भारत अपनी तरफ से पाकिस्तान के खिलाफ कार्रवाई करने पर मजबूर हो सकता है।
उल्लेखनीय है कि गत 26 नवंबर को मुंबई में हुए आतंकी हमलों में भारत बार-बार पाकिस्तानी आतंककारियों का हाथ होने की बात करता रहा है। भारत ने साफ तौर पर कहा है कि मुंबई हमलों में पाकिस्तानी आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा और पाकिस्तानी आतंककारी शामिल रहे हैं।
मुंबई हमलों के दौरान पकडे गए एकमात्र आतंकी अजमल आमिर कासब के भी पाकिस्तानी होने की पुष्टि भी हो चुकी है। इतना ही नहीं अन्य सबूत इस ओर संकेत करते हैं कि मुंबई पर हमला बोलने वाले आतंककारी पाकिस्तानी थे। भारत के अलावा अमरीका, ब्रिटेन और अन्य देशों से पाकिस्तान पर आतंकियों के खिलाफ कार्रवाईकरने का दबाव लगतार बढाया जा रहा है। लेकिन इन सबके बावजूद पाकिस्तान बिना जांच और सबूत के आतंककारियों के खिलाफ कार्रवाईकरने को तैयार नहीं है।
सबूतों की अनदेखी करते हुए पाकिस्तान ने आतंककारियों को पाकिस्तानी मानने से इनकार कर दिया है। पाकिस्तान का कहना है कि भारत ने अभी तक कोई ठोस सबूत नहीं दिया है।


आगे पढ़ें...

Saturday, December 20, 2008

2.5 करोड़ मोबाइल फोन डिसकनेक्ट हो सकते हैं


आतंकवादी हमलों का ये इनडायरेक्ट असर है। 6 जनवरी को देश के ढाई करोड़ फोन डिसकनेक्ट किए जा सकते हैं।
  • संचार मंत्रालय ने सभी टलिकॉम कंपनियों से कहा है कि जिन फोन में इंटरनेशनल मोबाइल इक्विपमेंट आइडेंटिटी नंबर यानी IMEI नंबर नहीं हैं, उन्हें डिसकनेक्ट कर दिया जाए।
  • IMEI नंबर में दरअसल 15 डिजिट्स होते हैं। इस नंबर को जीएसएम नेटवर्क पहचानता है। इससे चोरी किए गए हैंडसेट का इस्तेमाल रोका जा सकता है। पुलिस इस नंबर के सहारे किसी फोन के कॉल को ट्रैक कर सकती है। जब भी कोई कॉल की जाती है तो जीएसएम ऑपरेटर के नेटवर्क पर IMEI नंबर दर्ज हो जाता है।
  • संचार मंत्रालय ने कहा है कि सभी ऑपरेटर इक्विपमेंट आइडेंटिटि रजिस्टर से लैस हों, ताकि उन्हें ये पता चल सके कि कॉल जेनुइन हैंडसेट से की जा रही है। 6 अक्टूबर को ऑपरेटर्स को भेजे लेटर में कहा गया है कि जिन ऑपरेटर के पास ये फैसिलिटी नहीं है, वो जरूरी हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर ले लें। तीन महीने के अंदर ये काम कर लिया जाए और मंत्रालय को ये बताया जाए कि आदेश का पालन हो गया है।
  • इंडियन सेल्युलर एसोसिएशन का कहना है कि नॉन IMEI यानी नकली हैंडसेट इसलिए चल रहे हैं क्योंकि विदेश से आ रहे फोन का IMEI वेलिडेशन करने की कोई व्यवस्था नहीं है। चोरी किए गए फोन का दोबारा इस्तेमाल रोकने का भी कोई बंदोबस्त नहीं है। ग्रे मार्केट में बिक रहे ज्यादातर फोन में IMEI नंबर नहीं है। अंदाजा है कि देश में ऐसे ढाई करोड़ से ज्यादा फोन हैं।
  • ऑपरेटर्स का कहना है कि संचार मंत्रालय की डेडलाइन पूरी कर पाना आसान नहीं है। संचार मंत्रालय चाहता है कि जिन फोन में IMEI नंबर नहीं है या इनवेलिड नंबर हैं, उससे कोई फोन न हो और न ही वो कोई फोन रिसीव कर पाएं। लेकिन ऐसा करने के लिए काफी खर्च करना होगा। इन नंबरों के इतने कॉम्बिनेशन हैं कि इस पर पूरी तरह से रोक लगाने में दिक्कतें आएंगी।


आगे पढ़ें...

इराक में अंतरराष्ट्रीय सेना एक साल और

संयुक्त राष्ट्र : अमेरिका ने संयुक्त राष्ट्र का एक प्रस्ताव बांटा है जो इराक में अमेरिका और उसके सहयोगियों की सेना की तैनाती के कार्यकाल खत्म होने पर सरकारों, कंपनियों और लोगों द्वारा इराकी संपत्तियों को जब्त होने से बचाएगा। यह मसौदा प्रस्ताव इराक में बहुराष्ट्रीय सेना की मौजूदगी को एक साल के लिये बढ़ा देगा। इराक में अमेरिका और उसके सहयोगी देशों की सेना की तैनाती का कार्यकाल 31 दिसंबर को खत्म हो रहा है।
निवर्तमान अमेरिकी राष्ट्रपति जार्ज डब्ल्यू. बुश के हस्ताक्षर वाले कार्यकारी आदेश के तहत इससे मिलती जुलती कानूनी सुरक्षा मई में समाप्त हो रही है। इराक को इसकी अवधि और बढ़ाने की उम्मीद है।


आगे पढ़ें...

सायना ने एक और इतिहास रचा


कुआलालंपुर। दुनिया में दसवें नंबर की बैडमिंटन खिलाड़ी सायना नेहवाल मलेशिया की म्यू चू वोंग को हराकर लगातार दो जीत के साथ विश्व सुपर सीरीज मास्टर्स फाइनल्स के सेमीफाइनल में पहुंचने वाली भारतीय खिलाड़ी बन गई है। टूर्नामेंट में सातवीं वरीय सायना ने लगातार दूसरी जीत दर्ज करते हुए वोंग को संघर्षपूर्ण मुकाबले में 21-10, 17-21, 21-16 से हराया।
पहले मैच में टिने रासमुसेन से हारने के बाद सायना को अंतिम चार में पहुंचने के लिए क्वार्टर फाइनल लीग के दोनों मैच जीतने थे और इस भारतीय सनसनी ने ऐसा ही किया। फ्रांस की चौथी वरीयता प्राप्त होंगियान पि को सीधे सेटों में हराकर सायना ने शाम को हुए मैच में वोंग को पस्त किया।
सायना ने शुक्रवार की सुबह फ्रांसीसी प्रतिद्वंद्वी को 34 मिनट तक चले मुकाबले में 21-18, 21-13 से हराया। पहले सेट में ही सायना ने दबाव बना लिया था और अपनी बेहतरीन रैली के दम पर विरोधी को छकाए रखा। सायना सेमीफाइनल में पहुंचकर काफी खुश हैं लेकिन उन्होंने कहा, 'मुझे दोनों क्वार्टर फाइनल लीग मुकाबलों में जीत की उम्मीद नहीं थी। यह एक बढि़या मैच था। मैं अपने प्रदर्शन से संतुष्ट और खुश हूं।'
उन्होंने कहा, 'सच कहूं तो मुझे एक ही दिन में दो मैचों में जीत दर्ज करने की उम्मीद नहीं थी। दोनों मैच काफी मुश्किल थे और मैं खुश हूं कि सेमीफाइनल में प्रवेश करने में सफल रही।' अब सेमीफाइनल में सायना की भिड़ंत हांगकांग की तीसरी वरीय और विश्व की छठें नंबर की खिलाड़ी चेन वांग से होगी।


आगे पढ़ें...

Friday, December 19, 2008

पाकिस्तानी है कसाब- शरीफ


पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने मुंबई हमलों में गिरफ्तार आतंकी के पाकिस्तानी नहीं होने के राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी के दावों को चुनौती देते हुए कहा है कि संदिग्ध के गांवों की घेराबंदी की गई है और उसके मां-बाप को किसी से मिलने की इजाजत नहीं दी जा रही
शरीफ ने पाकिस्तानी टेलीविजन चैनल जियो न्यूज के साथ एक साक्षात्कार में कहा कि मैंने खुद इसकी तस्दीक [जांच] की है। सुरक्षा एजेंसियों ने उसके [अजमल आमिर ईमान उर्फ अजमल कसाब के] घर और गांव की घेराबंदी कर रखी है। उसके मां-बाप को किसी से मिलने की इजाजत नहीं दी जा रही है। उन्होंने कहा कि मैं नहीं समझ पा रहा हूं कि ऐसा क्यों किया जा रहा है।
पूर्व पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने मांग की कि आवाम और मीडिया को कसाब के मां-बाप से मिलने की इजाजत दी जानी चाहिए, ताकि सच्चाई खुल कर सामने आ सके। खुद पंजाब से ताल्लुक रखने वाले पाकिस्तान मुस्लिम लीग के नेता ने कहा कि हमें कुछ आत्ममंथन करने की जरूरत है।
जरदारी ने पहले माना था कि मुंबई हमलों के सरगना पाकिस्तान से ताल्लुक रखने वाले और राष्ट्र से इतर गुटों से जुड़े हो सकते हैं। अब उन्होंने कहना शुरू कर दिया है कि अब भी कोई वास्तविक सबूत नहीं है कि मुंबई पर हमला करने वाले आतंकी पाकिस्तान से गए थे।
पाकिस्तानी राष्ट्रपति ने इसी हफ्ते ब्रिटिश ब्राडकास्टिंग सेंटर [बीबीसी] के साथ एक साक्षात्कार में कहा था कि क्या आपने इस बारे में कोई सबूत देखा। मैंने इस मामले में निश्चित रूप से कोई वास्तविक सबूत नहीं देखा है।
भारत ने जब से यह बात सार्वजनिक की कि मुंबई हमलों के सिलसिले में गिरफ्तार कसाब पंजाब प्रांत के एक गांव का रहने वाला है और जब से कसाब के बाप ने एक पाकिस्तानी अखबार के समक्ष यह कबूल किया है कि भारत में गिरफ्तार बंदूकधारी उसका बेटा है पाकिस्तानी सुरक्षा एजेंसियां और फरीदकोट के स्थानीय अधिकारी इसकी लीपापोती के लिए मुहिम चला रहे है।
नवाज शरीफ ने जरदारी के शासन पर भी हमले किए हैं। पूर्व पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार का शासन नहीं चल रहा है और ऐसे में पाकिस्तान की तस्वीर एक विफल राष्ट्र के रूप में पेश हो रही है। शरीफ ने मांग की कि पाकिस्तान जिन मुश्किलों से जूझ रहा है उससे उसको निकालने के लिए तत्काल एक नए रोडमैप की जरूरत है।
शरीफ के इस बयान को पाकिस्तान सरकार ने दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। सूचना मंत्री शरी रहमान ने कहा कि ऐसे समय में देश के सभी दलों और नेताओं को एकजुट रहना चाहिए


आगे पढ़ें...

आठवीं तक बिना एग्जाम पास होंगे बच्चे

नई दिल्लीः किसी भी बच्चे को आठवीं क्लास तक फेल नहीं किया जाना चाहिए। यदि कोई बच्चा पढ़ने में कमजोर है, तो उसके लिए स्कूल विशेष क्लास और कोचिंग की व्यवस्था करे। यह प्रस्ताव रखा गया है कि राज्यसभा में पिछले हफ्ते रखे गए बिल में।

  • इसमें कहा गया है कि प्राथमिक कक्षाओं में दुनिया में कहीं भी किसी बच्चे को फेल नहीं किया जाता। मगर हमारे यहां बहुत से प्राइवट स्कूल कमजोर विद्यार्थियों को फेल कर देते हैं और उन्हें क्लास रिपीट करने के लिए कहते हैं। कई स्कूल तो ऐसे बच्चों को सीधे स्कूल से निकाल देते हैं। अगर यह बिल कानून बन जाता है तो ऐसे स्कूलों को दंडित किया जाएगा।
  • बिल में यह भी कहा गया है कि परीक्षा को ऑप्शनल बना दिया जाए।
  • विद्यार्थियों का मूल्यांकन स्कूल चाहें तो दैनिक आधार पर कर सकते हैं। मूल्यांकन के लिए टर्मिनल, अर्ध-वार्षिक या वार्षिक परीक्षा लेने की कोई जरूरत नहीं है।
इन परीक्षाओं की वजह से बच्चों में हीनभावना बढ़ती है और वे खुदकुशी तक कर लेते हैं। इस बिल को तैयार करने वालों में से एक दिल्ली यूनिवर्सिटी के प्रो. विनोद रैना का कहना है कि लोग आम तौर पर सोचते हैं कि यदि कोई परीक्षा न हो और फेल होने का डर न हो तो बच्चे ढंग से पढ़ाई ही नहीं करेंगे। हमारा कहना है कि बच्चे खाली भय के मारे पढ़ाई नहीं करते हैं, बल्कि यदि आप उन्हें सही माहौल दें तो भी वे पढ़ाई में सीरियस होंगे।


आगे पढ़ें...

क्रिकेट रिश्तों पर असर नहीं: पीसीबी

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ( पीसीबी) ने उम्मीद जताई है कि भारत का पाकिस्तान दौरा रद्द होने के बावजूद दोनों देशों के बीच क्रिकेट रिश्तों पर कोई असर नहीं पड़ेगा।
पीसीबी के अध्यक्ष एजाज बट्ट ने कहा कि भारत का पाकिस्तान दौरा रद्द करने का फैसला राजनीतिक है। उन्होंने कहा कि सीरीज़ रद्द होना हमारे लिए एक बडा झटका है। इससे पीसीबी को करोडों रुपये का नुकसान हुआ है। इसके अलावा एक अदद टेस्ट खेलने की उम्मीद कर रहे पाकिस्तानी खिलाड़ियों को भी गहरी निराशा हुई होगी।
उन्होंने कहा कि भारत के इस फैसले से न तो दोनों देशों के बीच क्रिकेट रिश्तों पर कोई असर पड़ेगा और न ही 2011 में होने वाले वर्ल्ड कप आयोजन पर असर पड़ेगा। बट्ट ने 'द न्यूज' अख़बार से कहा कि वाकई यह फैसला हमें निराश करने वाला रहा। दोनों देशों के बोर्ड यह सीरीज खेलने को उत्सुक थे। हमने भी इस सीरीज़ को आयोजित करने के लिए पुरजोर कोशिश की। लेकिन बाद में भारत सरकार ने इसे रद्द करने का फैसला किया।


आगे पढ़ें...

अंतुले ने पीएम को भेजा इस्तीफा


नई दिल्ली: महाराष्ट्र में ऐंटी टेररिस्ट स्क्वॉड (एटीएस) के प्रमुख हेमंत करकरे के मारे जाने के मामले में विवादास्पद बयान देने वाले केंद्रीय मंत्री अब्दुर रहमान अंतुले ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को अपना इस्तीफा भेज दिया है। उच्च पदस्थ सूत्रों ने शुक्रवार को बताया कि अंतुले ने अपना त्यागपत्र बुधवार की रात को प्रधानमंत्री के पास भेज
गौरतलब है कि अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री 79 वर्षीय अंतुले की टिप्पणी की संसद के अंदर और बाहर काफी आलोचना की गई थी। विपक्षी दलों ने उनके इस्तीफे की मांग की थी। अंतुले ने गुरुवार को कहा था कि उन्होंने अपने बयान पर किसी को कोई स्पष्टीकरण नहीं दिया है। न तो उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी या प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मुलाकात की है और न ही उन्हें लिखित में कुछ दिया है।
केंद्रीय मंत्री अंतुले ने 26 नवम्बर की रात मुम्बई के शिवाजी टर्मिनल रेलवे स्टेशन पर एटीएस के प्रमुख करकरे के मारे जाने के मामले में शक जाहिर किया था। उन्होंने करकरे की मौत को मालेगांव बमकांड मामले की जांच से जोड़कर देखा था। इस मामले में साध्वी प्रज्ञा ठाकुर और लेफ्टिनंट कर्नल श्रीकांत पुरोहित अभियुक्त हैं। उन्होंने करकरे को निशाना बनाए जाने का संकेत दिया था।
बाद में उन्होंने यह कहकर मामले को सुलझाने की कोशिश की थी कि वह करकरे की आतंकवादियों द्वारा हत्या किए जाने के तथ्य पर सवाल नहीं उठा रहे हैं। मुख्य विपक्षी दल बीजेपी के साथ-साथ शिवसेना ने अंतुले के इस्तीफे की मांग करते हुए कहा था कि इस बयान से मुम्बई में पाकिस्तानी आतंकवादियों द्वारा हमला किए जाने का भारत का दावा कमजोर होगा।


आगे पढ़ें...

टीवी चैनलों के लिए गाईडलाइन

मुंबई आतंकी हमलों की कवरेज के लिए आलोचनाओं के शिकार हुए टेलीविजन चैनलों के लिए संवेदनशील घटनाओं के दौरान समाचार प्रसारण के लिए दिशानिर्देश जारी किए गए हैं। समाचार प्रसारण मानक विवाद निवारण प्राधिकरण [न्यूज ब्रोडकास्टिंग स्टैंडर्स डिस्प्यूट रिड्रेसल अथोरिटी] के अध्यक्ष न्यायमूर्ति जेएस वर्मा ने ये दिशानिर्देश जारी किए-

  • बंधकों की पहचान, संख्या और उनकी स्थिति के बारे में किसी भी जानकारी का प्रसारण नहीं करें। उन्हें इस बात का भी ध्यान रखना होगा कि वे बचाव अभियानों में सुरक्षाबलों की संख्या और अभियान के तरीकों के बारे में भी खुलासा नहीं करें।
    टेलीविजन चैनल इस तरह का कोई सीधा प्रसारण नहीं करें जिससे आतंकी या उग्रवादी संगठन या उनकी विचारधारा के प्रचार-प्रसार में सहायता मिलती हो अथवा अपराधियों के प्रति सहानुभूति पैदा होती हो।
  • आतंकियों का महिमामंडन करने से बचने के साथ ही उनके अवैध ऐजेंडे को आगे बढ़ाने में सहायक होने से भी बचा जाना चाहिए।
    किसी घटना के समय पीड़ितों, सुरक्षा बलों या उनके तकनीकी सहयोगियों और अपराधियों के साथ सीधा संपर्क नहीं करे। उन्हें ध्यान रखना होगा कि वे भावनात्मक दृश्यों के प्रसारण में खास सावधानी बरते। मृतकों के प्रति सम्मान दिखाए और इस संबंध में दृश्य नहीं दिखाए।
    सशस्त्र संघर्ष, आंतरिक विवाद, सांप्रदायिक हिंसा, जनता की नाराजगी आदि से संबंधित सभी खबरों का प्रसारण जनता के हितों को ध्यान में रखकर सोच समझ कर किया जाना चाहिए।
  • मीडिया को पुराने फुटेज के अनावश्यक बार-बार और लगातार प्रसारित करने पर भी रोक लगाने की बात कही गई है। इसमें कहा गया है कि इस प्रकार के प्रसारण से दर्शकों के मस्तिष्क पर गहरा असर पड़ सकता है।
  • लेकिन यदि प्रसारण किया जाता है तो उस स्थिति में उस प्रसारण पर फाइल लिखा होना चाहिए और फाइल शब्द का प्रसारण भी साथ में किया जाना चाहिए।


आगे पढ़ें...

Thursday, December 18, 2008

दंड प्रक्रिया संहिता [सीआरपीसी] संशोधन विधेयक पेश

नई दिल्ली। बलात्कार की शिकार महिलाओं को अदालती कार्यवाही की परेशानियों से बचाने के लिए दंड प्रक्रिया संहिता [सीआरपीसी] में संशोधन संबंधी विधेयक बृहस्पतिवार को राज्यसभा में पेश किया गया।
गृहमंत्री पी. चिदंबरम द्वारा पेश किए गए दंड प्रक्रिया संहिता [सीआरपीसी] संशोधन विधेयक 2006 में बलात्कार की शिकार महिलाओं को बार-बार अदालतों का चक्कर लगाने की बजाय अब वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए उनकी गवाही या जिरह की सुविधा देने का प्रावधान है। गवाहों के लिए भी वीडियो कांफ्रेंसिंग की सुविधा देने का प्रस्ताव है।

  • इस विधेयक में प्रस्ताव है कि बलात्कार के मामले की सुनवाई दो महीने के भीतर पूरी कर ली जाए.
  • जहां तक संभव हो इन मामलों की सुनवाई महिला न्यायाधीश करे तथा पीड़ित महिला अपनी सुविधा वाले स्थान से ही बयान दर्ज करा सके।
  • यदि कोई महिला मृत्युदंड की सजा सुनाए जाते समय गर्भवती हो तो उसकी सजा को आजीवन कारावास में भी बदलने का प्रस्ताव है।
  • बलात्कार की शिकार महिलाओं को बार-बार अदालतों का चक्कर लगाने की बजाय अब वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए उनकी गवाही या जिरह की सुविधा देने का प्रावधान है।
  • मानसिक रोगों का शिकार और बच्चों के लिए भी प्रक्रिया को राहत देने वाला बनाया गया है। यह विधेयक पहली बार अगस्त 2006 में राज्यसभा में पेश किया गया था तथा इसे व्यापक विचार-विमर्श के लिए संसद की स्थायी समिति को सौंप दिया गया था।


आगे पढ़ें...

कामयाब रहा पहला फेस ट्रांसप्लांट


क्लीवलैंड : चोट की वजह से उस महिला का चेहरा इतना वीभत्स हो चुका था कि उसके अपने बच्चे भी उसे देख कर डर जाते थे। इस साल के शुरू में जब वह डॉ.मारिया साइमिनोवो से मिली तो उसे देख कर डॉक्टर भी हतप्रभ रह गई। क्लीवलैंड क्लीनिक री कन्स्ट्रक्टिव सर्जन डॉ. मारिया ने दो सप्ताह पहले इस महिला के चेहरे का प्रत्यारोपण किया। अमेरिका में यह पहला चेहरा प्रत्यारोपण है।
करीब 22 घंटे की इस प्रक्रिया के दौरान मरीज के चेहरे पर हड्डियां, मांसपेशियां, तंत्रिकाएं, त्वचा, रक्त वाहिनियां और दांत लगाए गए। यह सभी अंग उस महिला के चेहरे से निकाले गए जिसकी कुछ ही घंटे पूर्व मृत्यु हुई थी। दुनिया में चेहरे के प्रत्यारोपण का यह चौथा मामला है। बहरहाल, अन्य मामले इतने जटिल नहीं थे। डॉ. मारिया ने बताया उसने अपने दोनों हाथों से अपने चेहरे को छुआ और उसे महसूस हुआ कि चेहरे पर नाक है, जबड़े भी हैं तो उसकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा। मरीज के नाम और उम्र को गोपनीय रखा गया है। यह भी नहीं बताया गया कि वह घायल कैसे हुई थी।
कल अस्पताल में हुए संवाददाता सम्मेलन में वह मौजूद नहीं थी। डॉक्टरों का कहना है कि उसके स्वास्थ्य में लगातार सुधार हो रहा है और वह अभी ज्यादा बोल पाने की स्थिति में नहीं है, लेकिन उन्हें उम्मीद है कि महिला जल्द ही स्वयं खाने लगेगी और सांस लेने लगेगी। अब तक उसे इसके लिए श्वांस नलिका में लगे एक पाइप का सहारा लेना पड़ता था।


आगे पढ़ें...

पाक सीमा पर सैनिकों का जमावड़ा बढ़ा

जैसलमेर : राजस्थान और पंजाब से लगी अंतरराष्ट्रीय सीमा के निकट पाकिस्तानी सेना की गतिविधियां तेज होती देखी जा रही हैं। पाक सीमा चौकियों पर रेंजर्स के साथ-साथ पाकिस्तानी सैनिकों का भी जमावड़ा देखा गया है। सीमाई इलाकों में भी सैनिकों तथा वाहनों की आवाजाही और अन्य प्रकार की हलचल बढ़ गई है।
भरोसेमंद रक्षा सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तानी सेना के सैन्य युद्धाभ्यास की समाप्ति के बाद भी सेना की टुकडि़यां अभी वापस नहीं हुई हैं। पिछले कुछ दिनों से पड़ोसी देश की सीमा चौकियों पर बड़ी संख्या में उनके सैनिकों को सीमाई क्रियाकलापों में व्यस्त देखा जा रहा है। कराची कोर के दस्ते विभिन्न गतिविधियों में मशगूल नजर आ रहे हैं। उच्च सैन्य अधिकारी लगातार सीमाई इलाकों का दौरा कर रहे हैं। इस बात की भी जानकारी मिली है कि पाकिस्तानी सेना के कई दस्तों को अफगान सीमा से हटाकर भारतीय सीमा के नजदीक तैनात किया जा रहा है।


आगे पढ़ें...

पाकिस्तान है आतंक का केंद्र-रश्दी


न्यूयॉर्क : पाकिस्तान को विश्व आतंकवाद का केंद्र बताते हुए प्रख्यात लेखक सलमान रश्दी ने इसके लिए इस्लामाबाद की कड़ी आलोचना की है कि वह मुंबई हमलों के आतंकवादियों के पाकिस्तानी होने से इंकार कर रहा है। एशिया सोसायटी में हो रही एक बहस में भाग ले रहे रश्दी ने कहा कि मुंबई में हुए आतंकी हमले हमलावरों की क्रूरता और उनसे निपटने में सरकार एवं सुरक्षा एजंसियों की नाकाफी कोशिशों के कारण बिल्कुल अलग हैं।
बहस के दौरान वक्ताओं ने इस बात पर सहमति जताई कि आतंकवाद के सभी रास्ते पाकिस्तान की ओर जाते हैं। वक्ताओं ने संशय जाहिर किया कि इस्लामाबाद आतंकवादी समूहों का खात्मा करेगा। उन्होंने कहा कि इस्लामाबाद को यह स्पष्ट संदेश देना चाहिए कि आतंकवादी पाकिस्तान की जवाबदेही बनते जा रहे हैं और उनका खात्मा उसके अपने हित में है। बहस में आतंक के खिलाफ लड़ाई में सहयोग के लिए बिना शर्त अरबों डालर की मदद देने का अमेरिका की भी आलोचना हुई। वक्ताओं ने कहा कि परवेज मुशर्रफ सेना में अपने कार्यकाल के दौरान कश्मीर में हिंसा फैलाने के लिए लश्कर-ए-तैयबा को सहायता देने के जिम्मेदार थे। रश्दी ने कहा कि मुशर्रफ ने पश्चिमी देशों के सामने अपना पश्चिमी चेहरा पेश किया लेकिन चरमपंथियों के लिए वह मुल्ला ही थे।
मुंबई के आतंकी हमलों को कश्मीर, गुजरात दंगे और विवादास्पद बाबरी ढांचा ढहाए जाने से जोड़ने के लिए रश्दी ने अरुंधती राय की कड़ी आलोचना की। वक्ताओं ने कहा कि आतंकवादियों की सोच अलग होती है और वह दुनिया को मध्य युग में वापस ले जाना चाहते हैं। लेकिन उन्होंने इस बात पर सहमति जताई कि आतंकवादी हिंदू मुसलमानों में कड़ुवाहट पैदा करने और दंगे फैलाने में नाकाम रहे क्योंकि दोनों ही समुदायों ने मुंबई हमलों की निंदा की और इससे संयुक्त रूप से निपटने का संकल्प जताया। उन्होंने हमलों पर सरकार की प्रतिक्रिया को लेकर भी नाराजगी जताई और कहा कि उन क्षेत्रों को मजबूत किया जाना चाहिए जहां खामियां पाई जाती हैं।
रश्दी ने इस बात पर भी संदेह जताया कि राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी की सरकार आतंकवादियों पर नियंत्रण कर सकेगी। उन्होंने कहा कि जब जरदारी की पत्नी बेनजीर प्रधानमंत्री थीं तब कथित भ्रष्टाचार के कारण खुद जरदारी की विश्वसनीयता दांव पर लगी थी। रश्दी ने हंसते हुए कहा कि उन्हें मिस्टर 10 परसेंट कहा जाता था और फिर उन्हें 20 परसेंट कहा गया जिससे उनके कौशल का पता चलता है।


आगे पढ़ें...

मेरी कोई जवाबदेही नहीं : अंतुले

महाराष्ट्र के पूर्व एटीएस प्रमुख हेमंत करकरे की मौत पर सवाल उठाने के लिए विपक्ष के निशाने पर आए केंद्रीय मंत्री ए. आर. अंतुले ने कहा है कि वह इस बारे में कोई सफाई नहीं देंगे और न ही किसी के प्रति उनकी जवाबदेही है। अंतुले ने यह भी कहा कि इस मामले में वह सोनिया गांधी से नहीं मिले हैं और न ही किसी को लिखित सफाई दी है।
इससे पहले लोकसभा में बीजेपी और शिवसेना के सदस्यों ने हंगामा किया और अंतुले को बर्खास्त करने की मांग की। बीजेपी के संतोष गंगवार ने शून्यकाल शुरू होते ही अंतुले के कथित बयान का मामला उठाया जिसका पार्टी और शिवसेना सदस्यों ने समर्थन किया। अंतुले भी उस समय सदन में मौजूद थे लेकिन अपने बचाव में वह कुछ नहीं बोले।
गंगवार ने अंतुले के बयान को आपत्तिजनक बताते हुये कहा कि एक ओर जहां लोकसभा में आतंकवाद से लड़ने के लिये कठोर कानून बनाने पर चर्चा हो रही थी वहीं दूसरी और अंतुले ने करकरे और उनके सहयोगियों के आतंकवादी हमले में मारे जाने पर सवाल खड़े किए जो अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है। बीजेपी ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से अंतुले को तुरंत बर्खास्त करने और इस मामले में तत्काल सदन में सफाई देने की मांग की।


आगे पढ़ें...

टीम इंडिया का पाक दौरा रद


मुंबई अटैक के बाद इंडियन क्रिकेट टीम के पाकिस्तान दौरे को लेकर लगातार अटकले लगाई जा रही थीं, उस पर आज विराम लग गया। आखिरकार भारत सरकार ने बीसीसीआई से कहा कि वह पाकिस्तान दौरे पर न जाए। सरकार की इस सलाह के बाद गुरुवार को बीसीसीआई ने दौरा रद्द करने का फैसला कर लिया। सरकार का मानना है कि मौजूदा हालात में पाकिस्तान के साथ क्रिकेट नहीं खेला जा सकता। मुंबई अटैक के बाद पैदा हुए हालात को देखते हुए भारत सरकार ने तय किया कि इंडियन टीम का पाकिस्तान जाना ठीक नहीं होगा। सरकार ने अपनी यह राय बीसीसीआई तक पहुंचा दी। इसके बाद बीसीसीआई ने दौरा रद्द करने का फैसला किया। गौरतलब है कि अगले महीने भारतीय टीम को पाकिस्तान दौरे पर जाना था। दोनों टीमों को 3 टेस्ट, 5 वनडे और एक टी-20 मैच खेलने थे।
बीसीसीआई की मीडिया समिति के प्रमुख राजीव शुक्ला ने दौरे को रद करने की पुष्टि करते हुए कहा, 'विदेश मंत्रालय से इस दौरे को मंजूरी नहीं मिलने के कारण इसे रद करने का फैसला किया गया है।' मुंबई में पिछले माह हुए आतंकी हमलों में लगभग 200 लोगों की मौत के बाद दोनों देशों के संबंधों में आई कड़वाहट को देखते हुए यह दौरा होने की संभावना नहीं के बराबर ही दिखाई दे रही थी। शुक्ला ने बताया कि इस सीरीज को किसी तटस्थ देश में खेलने के बारे में फिलहाल कोई विचार नहीं किया गया है।


आगे पढ़ें...

Wednesday, December 17, 2008

ऐंटी टेरर बिल -किसने क्या कहा

आतंकवाद से निपटने के लिए देश की सबसे बड़ी पंचायत-संसद में नेता एकजुट हो रहे हैं। लोकसभा में यूपीए सरकार लोकसभा की चर्चा में विपक्ष के नेता लालकृष्ण आडवाणी। (फाइल फोटो) र की ओर से पेश ऐंटी टेरर बिल को बीजेपी के समर्थन मिलने के बाद सर्वसम्मति से पास हो जाने की उम्मीद है। संसद से मंजूरी मिलने के बाद नैशनल इन्वेस्टीगेशन एजंसी (एनआईए) का गठन होगा। इसके बाद इसे मंजूरी के लिए संसद के ऊपरी सदन-राज्यसभा में भेजा जाएगा।
इस मुद्दे पर नेताओं ने क्या-क्या कहा :-
' मैं सदन से गुजारिश करता हूं कि इन बिलों को समर्थन देकर पास करें। आतंकी गतिविधियों की जांच का मूल जिम्मा राज्यों के पास ही रहेगा। आतंकी वारदातों से जुड़े संवेदनशील मामलों की सुनवाई कर रहे जज रिटायरमंट के बाद भी इन केसों की सुनवाई करते रहेंगे। देश आतंक से निपटने के लिए एक फेडरल एजंसी की मांग कर रहा है। हमें आतंकवाद की जड़ तक पहुंचकर इसे ख़त्म करना होगा।
- पी. चिदंबरम (केंद्रीय गृहमंत्री)
' हम सैद्धांतिक तौर पर बिल का समर्थन करते हैं। मुझे खुशी है कि कांग्रेस ने दस साल बाद सही पर आतंकवाद पर हमारे स्टैंड को सही माना। हमने 9 / 11 के बाद अमेरिका को भी आतंकवाद पर चेताया था। पाकिस्तान ने आतंकवाद की आड़ में हमारे खिलाफ छद्म युद्ध (प्रॉक्सी वॉर) छेड़ रखा है। पोटा कानून बनाने में हमारी नियत बिल्कुल सही थी। लेकिन अफसोस की उसे समझा नहीं गया। आतंकवाद से निपटने के लिए यूपीए सरकार एनडीए के ही फॉर्म्यूले पर बढ़ रही है। यूपीए को मानना चाहिए कि उन्हें आतंकवाद के खतरे को समझने में दस साल लग गए। लेफ्ट पार्टियों ने मुझसे कहा है कि भारत को आतंकवाद से निपटने के लिए ज़्यादा सख्त होना पड़ेगा।'
- लालकृष्ण आडवाणी (नेता-विपक्ष लोकसभा)
' इस कानून के दायरे में उन लोगों को भी लाना चाहिए जो दंगे-फसाद कराते हैं। दंगे-फसाद में पकड़े गए लोगों पर भी इन्हीं कानूनों के तहत कार्रवाई की जानी चाहिए।'
-ए.आर.अंतुले (नेता-कांग्रेस)


आगे पढ़ें...

जमात का आतंकी संगठनों से संबंध


अमेरिकी विदेश मंत्री कोंडालिजा राइस ने पाकिस्तान के उस दावे को खारिज कर दिया, जिसमें यह कहा गया था कि जमात-उद-दावा एक चैरिटी है। राइस ने दो टूक कहा कि जमात का आतंकी संगठनों से संबंध हैं। पत्रकारों से बातचीत में राइस ने कहा कि अमेरिका पाकिस्तान और अन्य सदस्य देशों पर दबाव डालेगा कि संयुक्त राष्ट्र द्वारा जमात पर प्रतिबंध, इसकी संपत्तियों को जब्त करने और इसके नेताओं को यात्रा वीजा नहीं देने के फैसले का पूरी तरह पालन किया जाए उन्होंने कहा कि अमेरिका को उम्मीद है कि पाकिस्तान इस मामले में सहयोग करेगा, क्योंकि वह खुद भी आतंकवाद की समस्या और इसके भीषण नतीजों का सामना कर रहा है। राइस के बयान पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी के बयान के मद्देनजर आए हैं। खबरों के मुताबिक कुरैशी ने कहा था कि जमात-उद-दावा की चैरिटी संस्थाएं बंद नहीं होंगी।


आगे पढ़ें...

बुश पर फेंका गया जूता 50 करोड़ का

दुनिया के सबसे कीमती जूते में हीरे-मोती नहीं जड़े हैं। बल्कि यह किसी भी आम से दिखने वाले जूते की शक्ल का है। खालिस चमड़े से बना हुआ है। पर इसकी खासियत इस बात में है कि यह दुनिया के सबसे ताकतवर शख्स को मारने के लिए फेंका गया था। यही बात इस जूते को बेहद खास बनाती है।
बुश पर फेंका गया जूता दुनिया का सबसे कीमती जूता बन गया है। एक सऊदी अख़बार के मुताबिक दुनिया के सबसे अनमोल जूते की जोड़ी में से एक को ही खरीदने के लिए एक शख्स ने एक करोड़ डॉलर यानी तकरीबन 50 करोड़ रुपये की बोली लगा दी है। इराकी पत्रकार मुंतजिर अल जैदी ने पिछले दिनों बगदाद में अमेरिकी प्रेज़िडंट जॉर्ज बुश पर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में जूते फेंके थे , जिससे बुश बाल-बाल बच गए थे।
यह घटना इस साल की सबसे चर्चित घटनाओं में शामिल हो गई है। और तो और जूते फेंके जाने की घटना पर एक ऑनलाइन गेम शो भी बन गया है , जिसमें खिलाड़ी को बुश को जूते के वार से बचाना है। मुंतजिर के दुस्साहसिक कदम को खाड़ी देशों में खूब सराहना और समर्थन मिल रहा है। इस घटना से इराकी लोग काफी खुश हैं। इराक के कई शहरों में मंगलवार को लोग सड़कों पर उतर आए और लाठी-डंडों में जूते बांधकर अमेरिकी फौजों को वहां से लौट जाने की मांग करते हुए प्रदर्शन तेज कर दिया है।
लीबिया के सैनिक तानाशाह रहे और वहां के प्रमुख नेता मुअम्मर गद्दाफी की बेटी आयशा गद्दाफी तो इराकी पत्रकार के इस कृत्य पर फिदा हो गई हैं। अपुष्ट ख़बरों के मुताबिक उन्होंने इराकी पत्रकार को मेडल ऑफ करेज से सम्मानित करने का फैसला किया है। उधर , वेनेजुएला के प्रेज़िडंट ह्युगो शावेज ने भी इराकी पत्रकार को बहादुर बताया है। कुलमिलाकर यह कहा जा सकता है कि बेहद हास्यास्पद सी लगने वाली इस घटना ने अमेरिका से नाराज़ मुल्कों को दुनिया की सबसे बड़ी ताकत के मुखिया पर हंसने का बेहद नाटकीय और नायाब मौका दे दिया है।


आगे पढ़ें...

सचिन ने पडो़सियों से माफी मांगी




चेन्नै में इंग्लैंड के खिलाफ सेंचुरी ठोकते हुए भारत को ऐतिहासिक जीत दिलाने वाले सचिन तेंडुलकर ने मैच के बाद मुंबई हमले में मारे गए लोगों को वह जीत समर्पित की थी, जिस पर सारे देश खासकर मुंबईवासियों का दिल पसीजा था। तेंडुलकर ने फिर लोगों के दिल में अपने बड़प्पन के चलते जगह बनाई है। मुंबई के बांद्रा इलाके में मौजूद पेरी क्रॉस रोड के बाशिंदों को सचिन तेंडुलकर के बड़प्पन का एहसास नए सिरे से महसूस करने का सबब मिल गया है।
दरअसल, इस इलाके में तेंडुलकर कुछ महीने पहले दोराब विला नाम का बंगला खरीदा है। बंगला काफी पुराना है। इस वजह से सचिन ने उसे तोड़कर बिल्कुल नए सिरे से मल्टि स्टोरी बंगला बनाने का फैसला किया। आजकल बंगला बन रहा है। जाहिर है बंगले के निर्माण की प्रक्रिया से उस इलाके में रहने वाले लोगों को काफी शोर-शराबे और दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था। सूत्रों के मुताबिक सचिन के बंगले के आस-पास रहने वाले लोगों ने इस बात की शिकायत भी की थी।
यह बात सचिन को जब पता चली तो उन्होंने वहां रहने वाले 120 लोगों को एक चिट्ठी लिखकर शोर-शराबे के लिए माफी मांगी है। मास्टर ब्लास्टर के इस मास्टर स्ट्रोक का असर हुआ है। सचिन के बंगले के बगल में ' गीता विला ' में रहने वाले अजय वाजीरानी के मुताबिक सचिन द्वारा माफी मांगे जाने से वह खुश हैं।
वाजीरानी ने कहा है कि सचिन की चिट्ठी मिलने के बाद उन्होंने बंगले के निर्माण में मदद करने का फैसला किया है। सचिन की पत्नी अंजलि तेंडुलकर ने कहा है कि घर बनते वक्त काफी शोर-शराबा होता है और हम नहीं चाहते हैं कि हमारे पड़ोसियों को इससे कोई दिक्कत हो। अंजलि ने बताया कि बंगले पर दस दिन पहले एक पूजा की गई थी जिसके बाद पड़ोसियों को चिट्ठी भेजी गई। इसके साथ ही तेंडुलकर के परिवार की तरफ से बिल्डर को हिदायत दी गई है कि रात में ज़्यादा देर तक काम न करें और छेद करने वाली मशीनों का कम से कम इस्तेमाल करें क्योंकि उन मशीनों से काफी शोर होता है। इसकी भरपाई करने के लिए ज़्यादा से ज़्यादा मजदूर काम पर लगाए जाएं।


आगे पढ़ें...

दाऊद को ब्रिटेन के हवाले कर सकता है पाक!


टेरर के मुद्दे पर पाकिस्तान बैकफुट पर नजर आ रहा है। मुंबई अटैक के बाद भारत सहित दुनिया भर के देशों की तरफ से पड़ रहे दबाव के कारण पाकिस्तान बचाव की मुद्रा में आ गया है। खबर है कि पाकिस्तान अपना दामन साफ करने के लिए अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम सहित कई खूंखार आतंकवादियों को ब्रिटेन के हवाले कर सकता है।
भारत सरकार के सूत्रों ने बताया कि ब्रिटिश प्राइम मिनिस्टर गॉर्डन ब्राउन की भारतीय उपमहाद्वीप के दौरे के बाद पाकिस्तान पर भारी दबाव है। गौरतलब है कि दौरे के दौरान ब्राउन ने भारत-पाक दोनों देशों को आतंकवाद से जुड़ी जांच के लिए आपस में सहयोग करने को कहा था। पाकिस्तानी प्राइम मिनिस्टर यूसुफ रजा गिलानी ने ब्राउन से बातचीत के बाद इस मुद्दे पर लगभग यू टर्न लिया है।
सूत्रों के मुताबिक, तनाव के इस दौर में ऐसी संभावना प्रबल होती जा रही है कि पाकिस्तान कुछ मोस्ट वॉन्टिड आतंकियों को, जो कि भारत से जुड़े हैं, ब्रिटेन को सौंप सकता है। दाऊद के खिलाफ ब्रिटेन में भी मुकदमे दर्ज हैं। दाऊद को ब्रिटेन के हवाले कर पाकिस्तान जहां उसे भारत को सौंपने से बच जाएगा, वहीं अपने ऊपर पर रहे इंटरनैशनल दबाव को भी काफी हद तक कम करने सफल हो जाएगा। हालांकि, पाकिस्तान यह बराबर कहता रहा है कि वह नहीं जानता कि दाऊद कहां है , जबकि भारत का लगातार दावा रहा है दाऊद पाकिस्तानी शहर कराची में छिपा हुआ है। अन्य खूंखार आतंकवादी और मुंबई अटैक में मोस्ट वॉन्टिड हाफिज सईद और मसूद अजहर को पाकिस्तान सरकार ने नजरबंद कर रखा है।
गौरतलब है कि ब्रिटेन ने दाऊद को 2003 में ग्लोबल टेररिस्ट घोषित किया था। भारतीय खुफिया एजंसियां लगातार यह दावा करती रही हैं कि दाऊद पाकिस्तानी खुफिया एजंसी आईएसआई की निगरानी में पाकिस्तान की सरजमीं से भारत में आतंकी गतिविधियां चला रहा है.


आगे पढ़ें...

Monday, December 15, 2008

सचिन ने पूरा किया जीत का अर्धशतक


टेस्ट क्रिकेट में शतकों और रनों के विश्व रिकार्डधारी मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने अपने शानदार कैरियर में आज एक अनूठा अर्धशतक पूरा कर लिया. सचिन ने अपनी नाबाद शतकीय पारी (103) से भारत को इंग्लैंड के खिलाफ पहले टेस्ट में छह विकेट की ऐतिहासिक जीत दिलाने के साथ ही अपने कैरियर की 50वीं टेस्ट जीत हासिल कर ली.
  • सचिन ने अपने 155 टेस्टों में 50 मैच जीते है; 43 हारे हैं और 62 मैच ड्रा खेले है.
  • मास्टर ब्लास्टर ने अपने 50 जीते मैचों में 4272 रन. हारे 43 मैचों में 3085 रन और ड्रा 62 मैचों में 5056 रन बनाए हैं.
  • सचिन ने अपने विश्व रिकार्ड 41 शतकों में से 15 शतक जीत में. नौ शतक हार में और 17 शतक ड्रा मैचों में बनाए है.
  • सचिन ने अपनी इस शतकीय पारी के साथ कैलेंडर वर्ष 2008 में 1000 रन भी पूरे कर लिए.
  • सचिन के कैरियर में यह पांचवा मौका है जब उन्होंने एक कैलेंडर वर्ष में एक हजार रन पूरे किए है.
  • इस वर्ष वह 12 मैचों में 52 .35 के औसत से 1047 रन बना चुके हैं जिनमें चार शतक और तीन अर्धशतक शामिल है.
  • मास्टर ब्लास्टर इस तरह वर्ष 2008 में एक हजार रन पूरे करने वाले छठे बल्लेबाज बन गए हैं और इस वर्ष सर्वाधिक रन बनाने वालों की सूची में वीरेन्द्र सहवाग (1445) दक्षिण अप्रीका के ग्रीम स्मिथ (1363) और वी वी एस लक्ष्मण (1071) के बाद चौथे स्थान पर पहुंच गए है.
  • सचिन ने इससे पहले 1997; 1999; 2001 और 2002 में एक हजार रन बनाए थे.
  • मास्टर ब्लास्टर ने इस मैच में इंग्लैंड के खिलाफ अपने 2000 टेस्ट रन भी पूरे कर लिए हैं और महान सुनील गावस्कर के बाद यह उपलब्धि हासिल करने वाले वह दूसरे भारतीय बल्लेबाज बन गए है.
  • सचिन अब आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के खिलाफ दो..दो हजार से ज्यादा रन बना चुके हैं. उन्होंने आस्ट्रेलिया के खिलाफ 29 मैचों में 2748 रन और इंग्लैड के खिलाफ 23 मैचों में 2134 रन बनाए है.


आगे पढ़ें...

यह सचिन का सर्वश्रेष्ठ शतक


विस्फोटक भारतीय ओपनर वीरेंद्र सहवाग ने इंगलैंड के खिलाफ ऐतिहासिक जीत में मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर की पारी को बेहद अहम बताते हुये इसे उनका सर्वश्रेष्ठ शतक बताया. सहवाग ने पहले क्रिकेट टेस्ट की समाप्ति के बाद आयोजित पुरस्कार वितरण कार्यक्रम में कहा, ' मैंने अब तक सचिन के जितने भी शतक देखे हैं. यह उन सभी में सर्वश्रेष्ठ है. सहवाग ने कहा कि सचिन ने इस शतक से भारत को जीत दिलाकर इसी मैदान पर कुछ साल पहले लगे घाव को भर दिया है. मुझे आज भी पाकिस्तान के खिलाफ मिली वह शिकस्त याद है लेकिन आज उन्होंने अपना काम बखूबी पूरा किया. उनका प्रदर्शन विलक्षण रहा. वर्ष 1999 में इसी मैदान पर खेले गये उस टेस्ट मैच में सचिन ने शानदार शतक जमाया था लेकिन वह लक्ष्य हासिल करने के कुछ देर पहले ही आउट हो गये थे और भारत उस मैच को 17 रन के मामूली अंतर से गंवा बैठा था.


आगे पढ़ें...

मुंबई हमले के पीडितों को समर्पित है यह शतक


सचिन तेंदुलकर ने आज यहां इंग्लैंड के खिलाफ ऐतिहासिक जीत दिलाने वाले अपने 41वें शतक को मुंबई आतंकी हमले के प्रभावित लोगों को समर्पित करते हुये कहा कि वह लंबे समय से इस तरह की पारी खेलने को बेकरार थे.
नाबाद 103 रनों की पारी खेलकर भारत को छह विकेट से जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाने वाले सचिन ने कहा कि मैं इस शतक को मुंबई हमले के शिकार हुये हरेक भारतीय को समर्पित करता हूं1 हालांकि इससे 26 नवंबर को हुये इस हमले में मारे गये लोग वापस नहीं लौट सकेंगे. लेकिन इस तरह मैं अपनी भावनाएं अभिव्यक्त कर रहा हूं.
उन्होंने कहा कि मुंबई आतंकी हमले में मारे गए सभी लोग शहीद थे और मैं उन सबकी शहादत को सलाम करता हूं. मैं इस जीत को अपनी पूरी टीम की तरफ से उन शहीदों को समर्पित करता हूं. इस आतंकी हमले में 177 लोग मारे गए थे और ढाई सौ से ज्यादा घायल हो गए थे.
इस अवसर पर सचिन ने मुंबई हमलों के दो सप्ताह के भीतर टेस्ट सीरीज के लिए भारत लौटी इंगलैंड टीम को भी धन्यवाद दिया. जब उनसे पूछा गया कि क्या वह खुद आतंकी हमले के बाद क्रिकेट खेलने को लेकर हिचक रहे थे तो उन्होंने नकारात्मक जवाब देते हुये कहा कि मुझे अपनी सुरक्षा व्यवस्था पर पूरा भरोसा था. सुरक्षा एजेंसियों ने बेहतरीन काम किया है और यही कारण है कि लोग यहां खेली गयी आला दर्जे की क्रिकेट देखने के लिए स्टेडियम तक खिंचे चले aaye.


आगे पढ़ें...

टेस्ट क्रिकेट में चौथी सबसे बड़ी जीत

भारत ने इंग्लैंड के खिलाफ पहले टेस्ट क्रिकेट मैच में सोमवार को 387 रन का लक्ष्य चार विकेट खोकर हासिल करने के साथ कई रिकार्ड अपने नाम किए जिसमें टेस्ट इतिहास में चौथा बड़ा लक्ष्य हासिल करना भी शामिल है।

  • भारत की टेस्ट क्रिकेट में वैसे यह 426वें मैच में 98वीं जीत है।
    भारतीय टीम ने 36वीं बार लक्ष्य का पीछा करते हुए जीत दर्ज की। उसने सातवीं बार 200 रन से अधिक का लक्ष्य हासिल किया।
    भारतीय टीम ने 1976 में वेस्टइंडीज के खिलाफ पोर्ट ऑफ स्पेन में 406 रन का लक्ष्य सफलतापूर्वक हासिल किया था। रिकार्ड वेस्टइंडीज के नाम पर है जिसने 2003 में आस्ट्रेलिया के खिलाफ सेंट जोंस में सात विकेट पर 418 रन बनाकर जीत दर्ज की थी।
  • इनके अलावा केवल आस्ट्रेलिया ही एकमात्र ऐसी टीम जिसने चौथी पारी में 400 रन बनाकर जीत दर्ज की। उसने इंग्लैंड के खिलाफ लीड्स में 1948 में तीन विकेट पर 404 रन बनाए थे।
    जहां तक बड़ा लक्ष्य हासिल करने की बात है तो टेस्ट इतिहास में यह केवल 24वां अवसर है जबकि किसी टीम ने 300 रन से अधिक का लक्ष्य हासिल किया।
  • भारत ने दूसरी बार चौथी पारी में 300 से अधिक रन बनाकर जीत दर्ज की। भारतीय सरजमीं पर यह लक्ष्य हासिल करने का नया रिकार्ड है। इससे पहले वेस्टइंडीज ने 1987-88 में दिल्ली में 276 रन के लक्ष्य को पार करके अपने नाम जीत लिखी थी।
    भारत का अपनी धरती पर चौथी पारी में सबसे बड़े लक्ष्य हासिल करने का पिछला रिकार्ड 1964-65 में बना था जब उसने मुंबई में आस्ट्रेलिया के खिलाफ आठ विकेट पर 256 रन बनाकर जीत दर्ज की
  • वह 1986 में भी आस्ट्रेलिया के खिलाफ चेन्नई में रिकार्ड बनाने के करीब था लेकिन तब टीम 347 रन का लक्ष्य छूने के बाद आउट हो गई और मैच टाई हो गया था।
  • भारत चौथी पारी में चार बार 387 रन से अधिक स्कोर बना चुका है। इनमें से एक बार जहां उसे जीत वहीं दो बार हार मिली जबकि एक मैच ड्रा रहा।
    वेस्टइंडीज के खिलाफ पोर्ट ऑफ स्पेन के रिकार्ड मैच के अलावा भारतीय टीम ने आस्ट्रेलिया के खिलाफ 1978 में एडिलेड में चौथी पारी में 445 रन बनाए लेकिन वह यह मैच हार गया।
  • उसे इंग्लैंड के खिलाफ 2002 में ला‌र्ड्स में 397 रन बनाने के बावजूद हार झेलनी पड़ी थी जबकि इंग्लैंड के खिलाफ ही ओवल में 1979 में उसने आठ विकेट पर 429 रन बनाकर मैच ड्रा कराया था।


आगे पढ़ें...

अंगरेजों को किया चेन्नई में चित


भारतीय टीम ने चेन्नई के एमए चिदंबरम स्टेडियम पर इंग्लैंड को पहले टेस्ट मैच में छह विकेट से हराकर ऐतिहासिक जीत दर्ज की। भारत ने इंग्लैंड के द्वारा दिए गए 387 रन के मुश्किल लक्ष्य को बड़ी आसानी से चार विकेट खोकर हासिल किया।
इंग्लैंड के द्वारा दिए गए लक्ष्य को भारत के बल्लेबाजों ने बौना साबित कर दिया। बड़े लक्ष्य का दबाव कभी भी भारतीय बल्लेबाजों पर नहीं दिखा और उन्होंने पांचवें व अंतिम दिन टूटती हुई पिच पर लक्ष्य हासिल करके विजय पताका फहराई। टीम इंडिया की जीत की नींव वीरेद्र सहवाग ने धुआंधार अंदाज में 83 रन बनाकर रखी तो इस नींव को पुख्ता उनके जोड़ीदार गौतम गंभीर [66] ने किया। उनके इस प्रयास को अंजाम तक पहुंचाने का जिम्मा सचिन तेंदुलकर [नाबाद 103] और सिक्सर किंग युवराज सिंह [नाबाद 85] ने पहुंचाया।
इंग्लैंड ने जब भारत के सामने 387 रन का लक्ष्य रखा तो केविन पीटरसन ने नहीं सोचा होगा कि एमए चिदंबरम स्टेडियम की टूटती पिच पर इसे हासिल किया जा सकेगा क्योंकि उनके पास दो विशेषज्ञ स्पिनरों के अलावा मंझा हुआ तेज आक्रमण भी है। लेकिन तेंदुलकर की बेजोड़ शतकीय पारी और युवराज से मिले शानदार सहयोग से भारत ने टेस्ट इतिहास में चौथा सबसे बड़ा लक्ष्य हासिल करने का रिकार्ड बना दिया। भारत ने तय समय से एक घंटे पहले ही चार विकेट पर 387 रन बनाकर इतिहास रचा। तेंदुलकर ने जैसे ही विजयी चौका लगाकर अपना शतक पूरा किया रिकार्ड बुक में एक रोमांचक टेस्ट दर्ज हो गया। महेंद्र सिंह धौनी फिर से भारत के लिए भाग्यशाली कप्तान साबित हुए। यह उनकी कप्तानी में भारतीय टीम की चार मैच में चौथी जीत है। कप्तान के रूप में अपने शुरुआती चार मैच जीतने का यह भारतीय रिकार्ड है।


आगे पढ़ें...

न्यूड फोटो छापा, ब्रूनी ने मांगा मुआवजा




लंदन : फ्रांस के राष्ट्रपति निकोला सारकोजी की चर्चित पत्नी कार्ला ब्रूनी ने अपनी न्यूड तस्वीर के इस्तमाल के लिए एक फैशन डिजाइनर पर मुकदमा किया है। कार्ला (40) ने दावा किया है कि फ्रांसीसी क्लॉथ कंपनी ' पार्डन ' ने अपने प्रॉडक्ट के लिए मेरी नग्न तस्वीर का प्रयोग किया। यह एक तरह से मेरी इमिज चोरी का मामला है।
क्लॉथ डिजाइनर ने 10,000 शॉपिंग बैग के ऊपर 1993 में खींची गई कार्ला के नग्न तस्वीरों का प्रयोग किया है। उस समय कार्ला एक मॉडल थीं। मार्च महीने में सारकोजी दंपती के ब्रिटेन दौरे के समय इस तस्वीर के सुर्खियों में आने से काफी विवाद हुआ था।
कार्ला के वकील ने कहा कि नैतिक और वैवाहिक जीवन में बाधा पहुंचाने वाले इस उत्पाद के लिए हमने 1 , 25 , 000 यूरो की क्षतिपूर्ति की मांग की है। वकील ने कहा कि कार्ला को अपनी इमिज (तस्वीर) पर पूरा अधिकार है। एक अंग्रेजी डेली के मुताबिक , मुआवजे में मिलने वाली इस राशि को कार्ला ने दान कर देने की इच्छा जताई है।


आगे पढ़ें...

मुंबई पर हमले की कहानी, कसब की जुबानी

मुंबई हमले में गिरफ्तार आतंकवादी अजमल आमिर कसब ने अपनी पूरी कहानी बयान कर दी है। शुरू से लेकर अंत तक उसने बताया कि कैसे पाकिस्तान में बैठे आकाओं ने तबाही मचाने, लोगों को बंधक बनाने और मीडिया के जरिए डिमांड रखने की साजिश रची थी।
ऐसे बना आतंकवादी
मेरा इरादा लुटेरा बनने का था। इसके लिए हथियारों की तलाश में बकरीद के दिन रावलपिंडी के राजा बाजार से मैं लश्कर-ए-तैयबा के दफ्तर पहुंचा। वहां मुझे एक व्यक्ति मिला। हमने उससे कहा कि हम संगठन में शामिल होना चाहते हैं। उसने कुछ पूछताछ की, हमारे नाम-पते लिखे और अगले दिन आने को कहा। अगले दिन उसके साथ एक और व्यक्ति था। उसने हमें 200 रुपये और कुछ रसीदें दीं। उसने हमें मुरीदके में मरकस तैयबा का पता देकर पहुंचने को कहा, जहां लश्कर के ट्रेनिंग कैंप हैं।
दहशत की ट्रेनिंग
मुरीद के में हमें 21 दिन की ट्रेनिंग (दौरा-सफा) दी गई। इसके बाद हमें 21 दिन के लिए एक और ट्रेनिंग दौरा-अमा के लिए भेजा गया। बाद में हमें मनसेरा भुट्टल गांव ले जाया गया, जहां तमाम हथियार चलाने की ट्रेनिंग मिली। आगे की ट्रेनिंग (दौरा-ए-खास) हमें मुजफ्फराबाद स्थित लश्कर के कैंप में दी गई। चेल्बंदी के पहाड़ी इलाके में हम 32 लड़कों को तीन महीने दौरान कसरत के अलावा हैंड ग्रेनेड, रॉकिट लांचर और मोर्टार आदि हथियारों का अभ्यास कराया गया। इनमें से 16 को जाकी उर रहमान लखवी (जिन्हें सभी चचा कहते थे) ने कुछ गुप्त अभियानों के लिए चुना था। इन 16 में से तीन ट्रेनिंग कैंप से भाग गए। बाकी बचे हम 13 लोगों को कफा नाम के व्यक्ति के साथ मुरीदके कैंप भेजा गया।
समुद्र की सवारी
मुरीदके में हमें तैराकी सिखाई गई। एक मछुआरे ने हमें समुद्र के वातावरण के बारे में बताया। हम कई बार समुद्र में भी उतरे। इस ट्रेनिंग के दौरान हमें भारतीय सुरक्षा एजंसियों के कामकाज के बारे में बताया गया। भारत में मुसलमानों पर अत्याचार की फिल्में दिखाई गईं।
आतंक का कारवां
10 लड़कों को दो ग्रुपों में मुंबई में हमले से तीन दिन पहले समुद्र के रास्ते कराची से रवाना होना तय हुआ। 23 नवंबर को सुबह सवा चार बजे हम समुद्र तट पहुंचे। करीब 20-25 मील यात्रा के बाद हमें समंदर में एक बड़ी नाव मिली। हमसे कहा गया था कि एक घंटे के सफर के बाद गहरे समुद्र में हमें अल हुसैनी नामक बड़े जहाज में चढ़ाया जाएगा। हममें से हरेक को आठ ग्रेनेड, एक एके-47 राइफल, 200 कारतूस, दो मैगजीन और एक सेलफोन दिया गया। इसके बाद हम भारतीय तट की ओर बढे़।
मुंबई में दस्तक
जब हम तट से कुछ दूरी पर थे, इस्माइल और अफादुल्ला ने भारतीय नाव पर एक भारतीय (डांडले) की हत्या कर दी। इसके बाद हम डिंघी पर सवार हुए और पहले दिए गए निर्देशों के मुताबिक बुदवार पार्क जेट्टी पहुंचे। बुदवार पार्क में उतरने के बाद मैं इस्माइल के साथ टैक्सी से विक्टोरिया टर्मिनस रेलवे स्टेशन गया। हमारा कोड नेम वीटीएस टीम था। स्टेशन पहुंचकर मैं और इस्माइल सुलभ शौचालय में गए और हथियार निकालकर गोलियां भरीं। बाहर आकर अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी।
चचा की कारस्तानी
हमसे कहा गया था कि भीड़भाड़ वाले समय सुबह 7 से 11 और शाम को भी इसी समय फायरिंग करनी है। कुछ लोगों को अगवा करके नजदीक की किसी इमारत की छत पर ले जाना था और लखवी चचा से संपर्क करना था। हमें बताया गया था कि चचा मीडिया के कुछ लोगों के नंबर देते। उसी के जरिए हमें मीडिया से बात करके बंधकों की रिहाई के लिए डिमांड रखनी थीं।


आगे पढ़ें...

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बुश पर फेंके जूते




बगदादः बगदाद में इराक के प्रधानमंत्री नूर-अल-मलिकी के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज बुश को उस समय अजीबोगरीब हालात का सामना करना पड़ा जब एक इराकी पत्रकार ने उनकी ओर अपने जूते फेंक दिए। इससे वहां कुछ देर के लिए अफरातफरी मच गई। बुश ने इस मामले को ज्यादा तूल न देकर इसे मजाक में टाल दिया।
हुआ यूं कि बुश अपने आखिरी इराक दौरे के दौरान प्रधानमंत्री नूर-अल-मलिकी के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे थे। तभी पत्रकारों के बीच से अचानक एक पत्रकार उठ खड़ा हुआ और उसने अपना एक जूता बुश को निशाना बनाकर फेंका। बुश ने किसी तरह अपने आपको बचाया। इसके ठीक बाद उसने अपना दूसरा जूता भी फेंक दिया।
यह जूता भी बुश के सिर के ऊपर से गुजरता हुआ दीवार से जा टकराया। बुश के ऊपर इस तरह से हमला होते देख वहां अफरातफरी मच गई। सुरक्षाबलों ने तुरंत हरकत में आते हुए उस शख्स को धर दबोचा और उसे बाहर ले गए। बुश ने स्थिति को संभाला और इसे ज्यादा तूल न देने को कहा। उन्होंने इस वाकए को हंसी में उड़ाते हुए कहा- ' क्या हुआ अगर किसी व्यक्ति ने मेरे ऊपर जूते फेंके ' उन्होंने इसकी तुलना अमेरिका में अक्सर होने वाले राजनीतिक विरोध प्रदर्शनों से की।


आगे पढ़ें...

Sunday, December 14, 2008

लश्कर से ISI का अब कोई लेना-देना नहीं: ज़रदारी


इस्लामाबाद : पाकिस्तान के राष्ट्रपति आसिफ अली ज़रदारी ने कहा है कि अब आईएसआई या अन्य किसी भी पाकिस्तानी एजंसी का लश्कर-ए-तैयबा जैसे आतंकी संगठनों से कोई लेना-देना नहीं है। उन्होंने कहा कि लश्कर और आईएसआई के बीच रिश्ते पिछली सरकारों के दौरान पनपे ' जब इस देश को तानाशाह चलाते थे। ' यह पहला मौका है जब किसी पाकिस्तानी राष्ट्रपति ने आईएसआई और लश्कर-ए-तैयबा के बीच रिश्तों की बात स्वीकार की है। अभी तक तमाम पाकिस्तान यही दावा करता रहा है कि उसका आतंकवाद या आतंकवादी संगठनों से कोई लेना-देना नहीं है।
जरदारी ने ' न्यूजवीक ' पत्रिका को दिए एक इंटरव्यू में कहा कि 11 सितंबर को अमेरिका पर हुए हमले के बाद चीजें बदलीं। सरकार किसी को भी पाकिस्तान की ज़मीन से किसी मित्र या शत्रु देश में किसी तरह की आतंकी कार्ररवाई की इजाज़त नहीं देगी।


आगे पढ़ें...

FBI ने लिए मुंबई हमलों के आतंकवादियों के डीएनए नमूने

एफबीआई ने मुंबई हमलों के दौरान मारे गए आतंकवादियों के डीएनए नमूने लिए हैं। इसका मकसद यह पता लगाना है कि क्या उनके तार अफगान या दूसरे आतंकवादी हमलों से जुड़े थे या नहीं। दरअसल, जांच से यह पता चला है कि आतंकवादियों ने जिन विस्फोटक उपकरणों का इस्तेमाल किया था, वह अफगानिस्तान में इस्तेमाल किए जाने वाले उपकरणों जैसे ही हैं। 26 नवंबर को मुंबई हमलों की जांच से जुड़े सूत्रों ने बताया कि भारत के अलावा पश्चिमी देशों के जांच अधिकारियों ने भी डीएनए नमूने हिफाजत के साथ रखे हैं। पश्चिम देशों के जांच अधिकारी इस बात का पता लगाने में जुटे हैं कि आतंकवादियों से मिले डीएनए नमूने अफगानिस्तान में कार्रवाई के दौरान मारे गए आतंकवादियों के डीएनए से मिलता है या नहीं।


आगे पढ़ें...

लादेन को की थी ऐटमी हथियारों की पेशकश

नई दिल्लीः अमेरिका में 11 सितंबर के हमले से सिर्फ एक महीने पहले पाकिस्तान के 2 परमाणु वैज्ञानिकों ने अलकायदा नेता ओसामा बिन लादेन से मुलाकात की थी और परमाणु हथियारों की पेशकश की थी।
एक नई किताब ' द मैन फ्रॉम पाकिस्तान- द ट्रू स्टोरी ऑफ वर्ल्ड्स मोस्ट डेंजरस न्यूक्लियर स्मगलर ए.क्यू.खान ' में यह दावा करते हुए कहा गया है कि ये दोनों पाकिस्तानी वैज्ञानिक अब्दुल कदीर खान के करीबी बताए जाते हैं। किताब में कहा गया है कि चौधरी अब्दुल मजीद और सुल्तान बशीरुद्दीन महमूद अगस्त 2001 में कंधार में तालिबान के मुख्यालय गए थे और 3 दिन बिन लादेन के साथ बिताए थे। ये दोनों वैज्ञानिक पाकिस्तान के परमाणु कार्यक्रम में कई ऊंचे पदों पर रह चुके हैं। हालांकि तथाकथित सौदा नहीं हो सका क्योंकि पाकिस्तानी परमाणु वैज्ञानिकों और बिन लादेन की बैठक किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सकी। ऐसा माना जाता है कि इसी समय अलकायदा नेता ने अपने वरिष्ठ सहयोगियों के साथ अचानक उत्तरपश्चिमी अफगानिस्तान की पहाडि़यों को छोड़ दिया था।


आगे पढ़ें...

मुंबई हमलों में है लश्कर का हाथ: ब्राउन

नई दिल्ली : ब्रिटिश प्रधानमंत्री गार्डन ब्राउन ने कहा कि वह जानते हैं कि मुंबई में आतंकवादी हमलों में लश्कर-ए-तैयबा हाथ है। प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मुलाकात के बाद ब्राउन ने कहा कि भारत की चिंताओं से मैं पाकिस्तान के प्रेजिडंट आसिफ अली जरदारी को आज अवगत कराऊंगा। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि आतंकवादियों को कहीं भी सुरक्षित पनाह न मिले, इसके लिए दुनिया को एकजुट होना चाहिए।


आगे पढ़ें...

टॉप 5 में पहुंचने से खुश हूं: पार्वती


मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता में दूसरे नंबर पर रहीं भारत की पार्वती ने कहा कि वह प्रतियोगिता में इतनी आगे तक पहुंचने से काफी खुश हैं। हालांकि उन्होंने कहा कि खिताब से बस एक कदम दूर रह जाने से वह निराश भी हैं।
उन्होंने कहा,' उम्मीद थी कि मैं खिताब जीत लूंगी। लेकिन थोड़ी निराशा हुई है। आठ साल के बाद कोई भारतीय शीर्ष पांच में पहुंच पाया है और यह बात मेरी खुशी का सबब है।' पार्वती ने कहा, 'मैं यह नहीं कह सकती कि मैं बहुत खुश हूं, क्योंकि मुझे जीत की उम्मीद थी। कहा जाता है कि जीवन में किस्मत की एक बड़ी भूमिका होती है और हो सकता है कि ईश्वर ने मेरे लिए कुछ और ही सोचा हो।'


आगे पढ़ें...

मिस रूस बनीं मिस वर्ल्ड


मिस इंडिया पार्वती ओमनाकुट्टन दूसरे नंबर पर
जोहानिसबर्गः मिस इंडिया पार्वती ओमनाकुट्टन मिस वर्ल्ड 2008 प्रतियोगिता में दूसरे स्थान पर रहीं। मिस वर्ल्ड 2008 का ताज रूस की सेनिया सुखिनोवा के सिर सजा। हरदम हंसमुख सी दिखने वालीं पार्वती ने जोहानिसबर्ग में देश का नाम रोशन कर दिया। उन्हें मिस वर्ल्ड 2008 प्रतियोगिता में दूसरा स्थान मिला। वह फर्स्ट रनरअप रहीं। इस प्रतियोगिता में जीत रूस की सेनिया सुखिनोवा को मिली। मिस त्रिनिदाद टोबैगो दूसरी रनरअप रहीं। साउथ अफ्रीका के जोहानिसबर्ग में हुई इस प्रतियोगिता में 109 देशों की सुंदरियों ने भाग लिया।
मिस वर्ल्ड 2008 :
विनर्स
1. मिस रूस , सेनिया सुखिनोवा (विजेता)
2.मिस इंडिया , पार्वती ओमनाकुट्टन (फर्स्ट रनरअप)
3. मिस त्रिनिदाद व टौबैगो , ग्रैब्रियल वालकॉट
टॉप 5 में जगह बनानेवालीं अन्य प्रतियोगी
मिस अंगोला , ब्रिगिथ डॉस सेंटोस
मिस साउथ अफ्रीका , टैन्सी कोइट्जी


आगे पढ़ें...

'पाकिस्तान पर उड़े भारतीय फाइटर प्लेन'

पाकिस्तान ने भारत पर उसकी हवाई सीमा के अतिक्रमण का आरोप लगाते हुए रविवार को अपने सभी हवाई ठिकानों पर इमरजंसी की घोषणा कर दी। हालांकि, भारतीय एयरफोर्स ने पाकिस्तान के इन आरोपों को बेबुनियाद बताया है।
चीनी समाचार एजंसी सिन्हुआ ने पाकिस्तान की सरकारी समाचार एजंसी एपीपी के हवाले से बताया कि पाकिस्तान ने यह कदम भारतीय जेट प्लेनों द्वारा उसकी वायुसीमा का अतिक्रमण करने पर उठाया। पाकिस्तानी एयरफोर्स के प्रवक्ता एयर कमोडोर हुमायुं वकार के हवाले से बताया कि शनिवार की रात इंडियन फाइटर प्लेनों ने लाहौर और पाक अधिकृत कश्मीर के आकाश से पाकिस्तानी सीमा में प्रवेश किया। उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी वायुसेना के लड़ाकू विमानों ने इस अतिक्रमण पर तत्काल प्रतिक्रिया दी और भारतीय प्लेनों को अपनी सीमा में वापस लौटने पर मजबूर कर दिया।
वकार ने कहा कि भारतीय विमान शनिवार रात 11.30 बजे और रविवार तड़के 13.05 बजे पाकिस्तानी सीमा में प्रवेश किया। उन्होंने माना कि ऐसा तकनीकी गड़बड़ी से भी हो सकता है, लेकिन फिर भी हम हर परिस्थिति के लिए तैयार हैं। इस बीच पाकिस्तान की सूचना मंत्री शेरी रहमान ने कहा कि भारत ने पाकिस्तान को बताया है कि ऐसा गलती से हो गया। हालांकि, भारतीय एयरफोर्स ने इन आरोपों को बेबुनियाद बताया है। एयरफोर्स का कहना है कि पाकिस्तान भारत को बदनाम करने के लिए ऐसे आरोप लगा रहा है।


आगे पढ़ें...

मैं एक आतंकवादी और पाकिस्तानी हूं


मुंबई हमले में पकड़े गए आतंकवादी आजम आमिर कसाब ने पाकिस्तानी उच्चायोग को चिट्ठी लिखकर कानूनी सहायता की गुहार लगाई है। उधर एक पाकिस्तानी चैनल के मुताबिक 5 महीने पहले कसाब मां के पास जिहाद पर जाने के लिए आशीर्वाद लेने गया था।
मुंबई के जॉइंट कमिश्नर ऑफ पुलिस राकेश मारिया ने शनिवार को यहां कसाब द्वारा चिट्ठी लिखने की जानकारी पत्रकारों को दी। उन्होंने बताया कि मुंबई पुलिस ने कसाब की चिट्ठी को जरूरी कार्यवाही के लिए विदेश मंत्रालय और केंद्रीय गृह मंत्रालय को भेज दिया गया है।
मारिया ने बताया कि 2 दिन पहले उर्दू में लिखी गई चिट्ठी में कसाब ने कहा है कि मैं और मेरे साथी पाकिस्तानी हैं। मैं पाकिस्तानी नागरिक और लश्कर - ए - तैयबा का सदस्य हूं। हम सबने आतंकवादी हमले में भागीदारी की। कसाब ने पाकिस्तानी हाई कमिशन से यह अनुरोध भी किया है कि एन्काउंटर के दौरान मारे गए उसके साथी इस्माइल खान के शव को हाई कमिशन अपनी कस्टडी में ले।
इस दावे के उलट दिल्ली स्थित पाकिस्तानी हाई कमिशन के प्रवक्ता ने कसाब की ऐसी कोई चिट्ठी मिलने से इनकार किया है। पाकिस्तान का यह इनकार काफी हैरत भरा है , क्योंकि कसाब के पाकिस्तानी नागरिक होने के अब तक ढेरों सबूत मिल चुके हैं। इसी कड़ी में पाकिस्तानी न्यूज चैनल जिओ टीवी की टीम ने कसाब के गांव फरीदकोट जाकर वहां के लोगों से बातचीत की। पता चला कि 5 महीने पहले ही कसाब गांव आया था। उसने घर छोड़ते वक्त अपनी मां से कहा था कि मैं ' जिहाद ' पर जा रहा हूं , इसलिए मुझे आशीर्वाद दो। इससे पहले कसाब के पिता आमिर कसाब ने भी ' डॉन न्यूज ' से बातचीत में माना था कि मीडिया में छपी तस्वीर में दिख रहा बंदूकधारी मेरा बेटा ही है।


आगे पढ़ें...

Saturday, December 13, 2008

बैन लागू न हुए तो कार्रवाई करेगी संरा


संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा व्यक्तियों और गुटों पर लगाए गए प्रतिबंधों की निगरानी के लिए जिम्मेदार एक अधिकारी ने कहा है कि यदि आतंकी गुटों के खिलाफ प्रतिबंधों को सही तरीके से लागू नहीं किया गया तो सुरक्षा परिषद कार्रवाई कर सकती है।
अलकायदा और तालिबान पर प्रतिबंधों की निगरानी के लिए नियुक्त समिति के समन्वयक रिचर्ड बैरेट ने जमात-उद-दावा पर प्रतिबंध लगाए जाने के बाद पाकिस्तान द्वारा की गई कार्रवाई की प्रशंसा की। बैरेट ने एक साक्षात्कार में कहा कि संयुक्त राष्ट्र में प्रावधान है कि यदि किसी देश ने अपनी सीमा के अंदर प्रतिबंधित गुट के खिलाफ आवश्यक कदम नहीं उठाए, तो उस देश के खिलाफ कार्रवाई की जा सकती है।
उल्लेखनीय है कि सुरक्षा परिषद के प्रतिबंधों के बाद सदस्य देशों को गुटों और व्यक्तियों की संपत्ति जब्त करना, उनकी अंतरराष्ट्रीय यात्रा पर प्रतिबंध लगाना और उनके साथ हथियार के सौदों को रोकना जरूरी है। पाक खुफिया एजेंसी इंटर सर्विसेज इंटेलीजेंस [आईएसआई] के पूर्व प्रमुख हामिद गुल पर भी संयुक्त राष्ट्र के प्रतिबंधों की संभावना के बारे में पूछे जाने पर बैरेट ने कहा कि इस संबंध में अभी कोई प्रस्ताव नहीं आया है।


आगे पढ़ें...

एक डेडलाइन तय की जानी चाहिए


पुलिस ने आतंकवादी हमले में जिंदा पकड़े गए अजमल कसब के खिलाफ 11 केस दर्ज किए हैं और तकनीकी रूप से हर केस में पुलिस को अदालत से उसे 14 दिन तक हिरासत में रखने की इजाजत मिल सकती है। कुल मिलाकर 164 दिन यानी पांच महीने से भी ज्यादा।
मुंबई पुलिस कहती है कि कसब जैसे आतंकी की लंबे समय तक ट्रेनिंग हुई है और महज कुछ दिनों की पूछताछ में उससे सारी बातें नहीं उलगवाई जा सकती हैं। इसके अलावा कई अन्य सुरक्षा एजंसियां भी कसब से पूछताछ करना चाहती हैं।
सात साल पहले आज ही के दिन भारतीय संसद पर आतंकी हमला हुआ था। भारत पर हुए आतंकी हमलों में इसका कोई सानी नहीं है , मुंबई हमला भी नहीं। मुंबई में आतंकियों के निशाने पर सबसे कम सुरक्षा वाली जगहें जैसे फाइव स्टार होटेल , रेस्ट्रॉन्ट , रेलवे स्टेशन और अस्पताल थे। फिर संसद हमले के आरोपी अफजल को फांसी की सजा सुनाने में ट्रायल कोर्ट को एक साल का वक्त लगा।
इसके करीब एक साल बाद 2003 में हाई कोर्ट ने अफजल की सजा पर अपनी मोहर लगाई। डेढ़ साल बाद , अगस्त 2005 में सुप्रीम कोर्ट ने भी अफजल की फांसी के फरमान पर दस्तखत कर दिए। लेकिन अफजल अब भी फांसी के फंदे से काफी दूर है।
मुंबई पुलिस इसी बात पर अपनी पीठ ठोक रही है कि उसके पास कम से कम पांच महीने कसब को हिरासत में रखने का कारण है। कायदा तो यह कहता है कि एक शख्स जिसे दर्जनों लोगों ने 26 नवंबर की रात मुंबई में गोलियां बरसाते हुए देखा , पांच महीने के भीतर तो उसे उसके किए की सजा दे ही डालनी चाहिए। कसब का जुर्म जगजाहिर है। वह एक ऐसे समूह का सदस्य था जिसने भारत की धरती पर भारत के खिलाफ जंग का ऐलान किया। 26 नवंबर की रात से अब तक एक पखवाड़े से भी ज्यादा वक्त बीत चुका है लेकिन उसके खिलाफ चार्जशीट तक नहीं दाखिल की गई है। अब पांच महीने पूछताछ ही चलेगी तो केस कब चलेगा ?
हमारा रेस्पॉन्स किसी घटना की गंभीरता या भयावहता के लिहाज से बदलता ही नहीं है। हम तो एक लीक पर चलते हैं। मुकदमा चलेगा , सजा होगी , फिर हाई कोर्ट में अपील , उसके बाद सुप्रीम कोर्ट में जिरह। वहां से भी फांसी की सजा हो जाए तो राष्ट्रपति के पास वीटो है। राष्ट्रपति भी मोहर लगा दे तो सरकार के पास फाइल लटकाने का अधिकार तो है ही... जब देश पर हमला हुआ है तो सुनवाई सीधे सुप्रीम कोर्ट में ही क्यों न करवाई जाए ?
भारत में किसी भी नागरिक को , उसके मूल अधिकार का हनन होने पर सीधे सुप्रीम कोर्ट में अपील करने की सहूलियत है. vastav mein एक डेडलाइन तय की जानी चाहिए जिसके भीतर फैसला हो जाए।
आतंकवाद के खिलाफ नाकाम रहने की जिस तरह की छवि हमारी बनती जा रही है , उसे बदलना होगा। यह पाकिस्तान पर हमला या बमबारी करने से नहीं होगा बल्कि देश के भीतर पहले से मौजूद सिस्टम्स को सुचारू बनाने से होगा। अजमल कसब का जिंदा पकड़ा जाना हमारे लिए एक टेस्ट केस है। इस बार हमें खुद को साबित करना होगा।


आगे पढ़ें...